spot_img
Newsnowप्रमुख ख़बरेंअरुणाचल में गोपनीय G20 बैठक से दूर रहा चीन: सूत्र

अरुणाचल में गोपनीय G20 बैठक से दूर रहा चीन: सूत्र

बैठक में 50 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया, जो सितंबर में दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन से पहले 50 प्रमुख शहरों में नियोजित दर्जनों कार्यक्रमों में से एक है।

नई दिल्ली/गुवाहाटी: भारत में रविवार को हुई G20 की गोपनीय बैठक में चीन शामिल नहीं हुआ। बैठक अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर में आयोजित की गई थी, जो एक पूर्वोत्तर राज्य है जिसका चीन दावा करता है कि वह तिब्बत का हिस्सा है। भारत ने अतीत में इस तरह के दावों को खारिज कर दिया है और अरुणाचल को अपना अभिन्न अंग बनाए रखा है।

यह भी पढ़ें: G20 सम्मेलन की तैयारी के लिए मनीष सिसोदिया ने वित्त मंत्री से मांगे 900 करोड़ रुपये

China skips secretive G20 meeting in Arunachal
अरुणाचल में गोपनीय G20 बैठक से दूर रहा चीन: सूत्र

बैठक में 50 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया, जो सितंबर में दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन से पहले 50 प्रमुख शहरों में नियोजित दर्जनों कार्यक्रमों में से एक है। वर्तमान में भारत के पास G20 की अध्यक्षता है।

यह स्पष्ट नहीं है कि चीन ने बैठक को लेकर आधिकारिक रूप से भारत के समक्ष विरोध दर्ज कराया है या नहीं।

इस पर न तो विदेश मंत्रालय ने और न ही चीन ने कोई टिप्पणी की है।

सप्ताहांत की बैठक को गोपनीय घोषित किया गया था और मीडिया कवरेज की अनुमति नहीं थी।

China skips secretive G20 meeting in Arunachal
अरुणाचल में गोपनीय G20 बैठक से दूर रहा चीन: सूत्र

गोपनीय G20 प्रतिनिधियों ने अरुणाचल प्रदेश का दौरा किया

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा ‘रिसर्च इनोवेशन इनिशिएटिव, गैदरिंग’ थीम पर आयोजित इस बैठक का आयोजन किया गया था।

बैठक में भाग लेने वाले प्रतिनिधियों ने अरुणाचल प्रदेश विधान सभा और ईटानगर में एक बौद्ध मठ का भी दौरा किया। उनके आगमन पर, हवाई अड्डे पर सांस्कृतिक मंडलियों द्वारा उनका स्वागत किया गया। अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने स्थानीय व्यंजनों का भी स्वाद चखा।

China skips secretive G20 meeting in Arunachal
अरुणाचल में गोपनीय G20 बैठक से दूर रहा चीन: सूत्र

पूर्वी लद्दाख में एक महीने से चल रहे सीमा गतिरोध के बीच पिछले दिसंबर में राज्य के तवांग सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीनी सैनिकों के बीच आमना-सामना हुआ था।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तब चीन पर एलएसी के साथ यथास्थिति को “एकतरफा” बदलने की कोशिश करने का आरोप लगाया था।