शुक्रवार, अक्टूबर 22, 2021
Newsnowक्राइममुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने Porn Movies बनाने वाले गिरोह का...

मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने Porn Movies बनाने वाले गिरोह का किया भांडाफोड़

पुलिस ने Porn Movies बनाने वाले गिरोह के सात लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें एक्टर भी शामिल हैं.

Mumbai: लॉकडाउन के बाद ओटीटी प्लेटफार्म्स और ऑनलाइन इंटरटेंमेंट कंटेंट में इजाफा हुआ है. लेकिन, इसमें पॉर्न कंटेंट (Porn Content) की मांग काफी बढ़ी है. यही कारण है कि अलग-अलग ढंग से टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर पार्न परोसा जा रहा है. मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने ऐसे की एक गिरोह का भांडाफोड़ किया है. उनकी कार्य़शैली और कमाई देख पुलिस के भी होश उड़े हुए हैं.

यह गिरोह सब्सक्रिप्शन के आधार पर लोगों को Porn परोस रहा था. सप्ताह में एक दिन एक एपिसोड तैयार होता था और ओटीटी प्लेटफार्म की तर्ज पर ‘ओरिजनल’ कंटेंट (अश्लीलता से भरा हुआ) वहां डाला जा रहा था. यह ऐप के जरिए चलाया जा रहा था. पुलिस ने इस मामले में सात लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें एक्टर भी शामिल हैं.

Mumbai: बंगले पर Porn Film बना रहे 5 लोगों को पुलिस ने किया अरेस्ट

गुप्त सूचना के आधार पर मारे गए छापे में Mumbai Police को कई पन्नों की स्क्रिप्ट, मोबाइल कैमरा, लाइट्स और अन्य तैयारियां मिली हैं. स्क्रिप्ट में अश्लील डॉयलाग्स के साथ पूरे सीन भी एक-एक कर के लिखे गए हैं. यहीं पर एक दिन में यह क्रू, एक सप्ताह तक चलने वाले एपिसोड की शूटिंग करता था. इसके लिए कई लोगों की टीम भी काम करती थी.

पुलिस ने प्राथमिक जांच में पाया है कि ऐसे कई अलग-अलग ऐप बेस्ड प्लेटफार्म चल रहे हैं. यह सब्सक्रिप्शन के आधार पर लोगों को पॉर्न कंटेंट परोस (Porn Content) रहे थे. साथ ही इनके फॉलोअर या सब्सक्राइबर लाखों में हैं. और इनकी कमाई करोड़ों में. हालांकि पुलिस का कहना है कि जांच चल रही है जिसमें यह आंकड़ा काफी बढ़ने की आशंका है.

Mumbai Police कामोत्तेजक फिल्मों और हार्ड पॉर्न फिल्मों में अंतर नहीं कर सकी, Gehana Vasisth की टीम का बयान

सबसे आश्चर्य की बात है कि एक महिला के मोबाइल से ही यह शूटिंग की जा रही थी. जब पुलिस छापा मारने पहुंची तो शूटिंग चल रही थी. पुलिस ने एक महिला को भी यहां से मुक्त कराया है. उसका कहना है कि उसे वेब सीरीज में काम करने का झांसा दिया गया था जब वह यहां पहुंची तो पता चला कि उससे पॉर्नग्राफी में काम कराया जाएगा.

पुलिस का कहना था कि उन्हें 12 ऐसे ऐप्स का पता चला है जहां यह काम चल रहा था. इसके साथ ही जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया उनके चैनल का सब्सक्रिप्शन 199 रुपए प्रति माह का है. इसके पास लाख से ज्यादा यूजर हैं जिनसे दो करोड़ तक की कमाई इन लोगों की हो रही थी. जबकि, क्रू का खर्च बहुत ही कम था.

इस बीच दूसरे पक्ष का कहना है कि यहां पॉर्न (Porn) नहीं बन रहा था. उनकी सफाई है कि यह एक लव स्टोरी है. जिसे शूट किया जा रहा था. लव स्टोरी और बोल्ड फिल्म के साथ पॉर्न (Porn) में अंतर होता है. पुलिस का कहना है कि बड़े प्लेटफॉर्म्स पर भी अश्लीलता है लेकिन वहां स्टोरी के बीच में उसे दर्शाया गया है. जबकि यहां कुछ और ही शूट किया जा रहा था.