spot_img
Newsnowसंस्कृतिVijaya Ekadashi 2023: पूजा तिथि और मुहूर्त

Vijaya Ekadashi 2023: पूजा तिथि और मुहूर्त

विभिन्न हिंदू उपवासों में, एकादशी का व्रत या एकादशी व्रत सर्वोच्च प्रभाव रखता है और यह पूरे देश में एक लोकप्रिय और सबसे सम्मानित हिंदू प्रथा भी है।

Vijaya Ekadashi 2023: विजया एकादशी का महत्व कई हिंदू शास्त्रों में वर्णित किया गया है। शाब्दिक अर्थ में ‘विजया’ शब्द जीत का प्रतीक है। विजया एकादशी का व्रत और इसका व्रत व्रत करने वाले को अपने जीवन की कठिन परिस्थितियों और परिस्थितियों में सफलता और विजय प्रदान करता है। यह सभी प्रकार की बाधाओं और बाधाओं से राहत प्रदान करने में मदद करता है। यदि लोग इस दिन दान-पुण्य करते हैं तो उन्हें अपने पिछले और वर्तमान पापों से मुक्ति मिलती है और उन्हें फल की प्राप्ति भी होती है।

यह भी पढ़ें: Ekadashi 2023: दिनांक, समय, अनुष्ठान और महत्व

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, विजया एकादशी फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष (अंधेरे पखवाड़े) के ग्यारहवें दिन (एकादशी) को मनाई जाती है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, विजया एकादशी की पूर्व संध्या या तो मार्च या फरवरी के महीने में आती है जिसे भगवान विष्णु की पूजा करने के लिए मनाया जाता है।

Vijaya Ekadashi 2023: पूजा तिथि और मुहूर्त

Vijaya Ekadashi 2023 Puja Date and Muhurat
Vijaya Ekadashi 2023: पूजा तिथि और मुहूर्त

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, चंद्र पखवाड़े का ग्यारहवां दिन भगवान विष्णु को समर्पित है और ऐसा माना जाता है कि एकादशी का उपवास सर्वशक्तिमान से जुड़ने और उनका आशीर्वाद पाने का सबसे कठिन लेकिन फलदायी तरीका है। इस वर्ष विजया एकादशी का उत्सव 16 फरवरी को शुरू होगा और 17 फरवरी तक चलेगा।

Vijaya Ekadashi 2023 शुभ मुहूर्त

प्रारंभ – 05:32 पूर्वाह्न, 16 फरवरी
समाप्त – 02:49 पूर्वाह्न, 17 फरवरी

Vijaya Ekadashi के अनुष्ठान

Vijaya Ekadashi 2023 Puja Date and Muhurat
Vijaya Ekadashi 2023: पूजा तिथि और मुहूर्त

विजया एकादशी व्रत एकादशी की सुबह से शुरू होता है और ‘द्वादशी’ के सूर्योदय पर समाप्त होता है। ऐसे कई भक्त हैं जो सूर्यास्त से पहले ‘सात्विक भोजन’ करके दसवें दिन से अपना उपवास शुरू करते हैं। इस दिन किसी भी प्रकार के अनाज, दाल और चावल का सेवन वर्जित होता है।

यह भी पढ़ें: भगवान गणेश के Ashtavinayaka अवतारों का महत्व

भक्त सूर्योदय से पहले उठते हैं और स्नान करने के बाद ब्रह्म मुहूर्त में भगवान विष्णु की पूजा और अर्चना करते हैं। एक बार सुबह की रस्में पूरी हो जाने के बाद, भक्त माता एकादशी की पूजा करते हैं और उनकी पूजा करते हैं। भक्त भगवान विष्णु की पूजा और अर्चना करते हैं और फिर देवता की मूर्ति को तुलसी के पत्ते, अगरबत्ती, सुपारी और नारियल चढ़ाते हैं।

देवताओं को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद लेने के लिए एक विशेष भोग तैयार किया जाता है और उन्हें अर्पित किया जाता है। इस दिन भक्ति गीतों के साथ-साथ वैदिक मंत्रों का पाठ करना अत्यधिक शुभ और फलदायी माना जाता है।

Vijaya Ekadashi 2023 Puja Date and Muhurat
Vijaya Ekadashi 2023: पूजा तिथि और मुहूर्त

भक्तों को जरूरतमंदों, गरीबों की मदद भी करनी चाहिए क्योंकि इस दिन किया गया कोई भी अच्छा काम अत्यधिक फल देने वाला साबित हो सकता है। भक्त अपनी क्षमता के अनुसार वस्त्र, धन, भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुओं का दान कर सकते हैं। इस दिन ‘विष्णु सहस्रनाम’ का पाठ करना अत्यंत शुभ माना जाता है।