NewsnowदेशTawang Clash के बाद एलएसी के पास चीनी लड़ाकू विमान तैनात

Tawang Clash के बाद एलएसी के पास चीनी लड़ाकू विमान तैनात

भारत-चीन सीमा यानी एलएसी से करीब 155 किलोमीटर दूर चीन की सैन्य गतिविधियां देखी गईं।

Tawang Clash: 9 दिसंबर को अरुणाचल के तवांग में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प के दो दिन बाद चीन ने अपने शिगात्से पीस एयरपोर्ट पर 10 विमान तैनात कर दिए। सैटेलाइट इमेज में यह खुलासा हुआ है। ये तस्वीरें मैक्सार टेक्नोलॉजीज ने जारी की हैं।

यह भी पढ़ें: US को मिली चेतावनी, चीन-भारत संबंधों में दखल न दें

Chinese aircraft deployed near LAC after Tawang clash
file image (Tawang Clash के बाद एलएसी के पास चीनी लड़ाकू विमान तैनात )

इसके मुताबिक भारत-चीन सीमा यानी एलएसी से करीब 155 किलोमीटर दूर चीन की सैन्य गतिविधियां देखी गईं। चीन इस एयरपोर्ट का इस्तेमाल सैन्य और नागरिक उद्देश्यों के लिए करता है। यहां चीनी वायुसेना के फाइटर जेट, हेलिकॉप्टर और ड्रोन तैनात किए गए हैं। यहां से भारतीय सीमा काफी नजदीक है। सैटेलाइट इमेज में 7 ड्रोन भी नजर आ रहे हैं।

Tawang Clash में हम भारत के साथ: अमेरिका

Chinese aircraft deployed near LAC after Tawang clash
Tawang Clash में हम भारत के साथ: अमेरिका

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन के प्रेस सचिव पैट रायडर ने कहा, ‘चीन उकसाने वाली रणनीति का इस्तेमाल कर रहा है। अमेरिका ने देखा कि चीन एलएसी के पास अपनी सेना जुटा रहा है। यहां उसने मिलिट्री इंफ्रास्ट्रक्चर भी तैयार किया है। भारत स्थिति को शांत करने की कोशिश कर रहा है और अमेरिका इसका समर्थन करता है।

यह भी पढ़ें: संयुक्त राष्ट्र के संबोधन में S Jaishankar ने पाकिस्तान पर तंज कसा

हम अपने मित्र देशों की सुरक्षा तय करेंगे। अगर कोई देश बल के बल पर और एकतरफा तरीके से सीमा बदलने की कोशिश करता है तो अमेरिका उसके सख्त खिलाफ है।

चीन एलएसी पर सड़क, रेल और हवाई संपर्क बढ़ा रहा है

Chinese aircraft deployed near LAC after Tawang clash
file image

सितंबर 2019 में चीन ने भारतीय सीमा से सटे इलाकों में गांव बसाए। उपग्रह चित्रों से अरुणाचल प्रदेश में एक और चीनी एन्क्लेव के निर्माण का पता चला। इसमें लगभग 60 इमारतों का दावा किया गया था। 2019 से पहले इस जमीन पर एक भी भवन नहीं था और 2021 में 60 भवन बन गए।