spot_img
Newsnowजीवन शैलीबढ़ते Air Pollution के एवज में हरियाणा के किसानों ने पराली बेचने...

बढ़ते Air Pollution के एवज में हरियाणा के किसानों ने पराली बेचने का फैसला किया

Air Pollution Update: हरियाणा के रोहतक में किसानों ने जलाने की जगह पराली को चारे में बदलने का विकल्प चुना है, जिसका सीधा फायदा पर्यावरण को होगा।

एक स्थानीय किसान ने कहा कि वे पराली जलाने की प्रथा को रोक देंगे जिससे राष्ट्रीय राजधानी के साथ-साथ आस-पास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता खराब हो रही है।

यह भी पढ़ें: Air Pollution से बच्चों में 7 स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं

“अब हम पराली नहीं जलाएंगे; इससे प्रदूषण हुआ। सरकार हमारी पराली को 5000 रुपये प्रति किलो के हिसाब से खरीद रही है। हम इस लाभ के साथ उर्वरक, बीज खरीद सकते हैं, ”किसान ने कहा।

Farmers sold stubble due to air pollution
बढ़ते Air Pollution के एवज में हरियाणा के किसानों ने पराली बेचने का फैसला किया

कई राज्यों में, हरियाणा देश में पराली जलाने के सबसे अधिक मामले दर्ज करने के लिए दूसरे स्थान पर है। पंजाब में पराली जलाने के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं।

उत्तर भारत के अन्य राज्य जिनमें राजस्थान, मध्य प्रदेश, दिल्ली और उत्तर प्रदेश शामिल हैं, भी इस साल 15 सितंबर से 4 नवंबर के बीच धान में आग लगाने की कतार में हैं, जिससे हवा की गुणवत्ता और खराब हो रही है।

Air Pollution में 34 प्रतिशत योगदान

Delhi-NCR continues to increase the havoc of air pollution
Air Pollution के एवज में हरियाणा के किसानों ने पराली बेचने का फैसला किया।

सफर (सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च) ने शुक्रवार को खुलासा किया कि पराली जलाने से राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण में 34 फीसदी तक का योगदान है।

4 नवंबर को जारी एक ताजा रिपोर्ट में पंजाब में पराली जलाने के मामलों में 12.59 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है।

पराली जलाना क्या है?

Farmers sold stubble due to air pollution
बढ़ते Air Pollution के एवज में हरियाणा के किसानों ने पराली बेचने का फैसला किया

ठूंठ धान की फसल के अवशेष हैं जिन्हें जमीन से हटाने की जरूरत है या इसमें विकसित होने वाले कीड़े उर्वरता को नष्ट कर देंगे। गेहूं की बिजाई के लिए बचे धान को हटाना जरूरी है।

विभिन्न विकल्पों में से, किसान अपनी फसल के अवशेषों को जलाने का विकल्प चुनते हैं क्योंकि यह सबसे सस्ता तरीका है जिसमें कोई वित्तीय निवेश नहीं होता है। हालांकि, यह अभ्यास पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता है क्योंकि यह Air Pollution में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

नवंबर के अंतिम सप्ताह के आसपास पराली जलाने की घटनाएं होती हैं।