Newsnowजीवन शैलीAir Pollution से बच्चों में 7 स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं

Air Pollution से बच्चों में 7 स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं

सूखी खांसी, घरघराहट और सांस फूलना कुछ ऐसे लक्षण हैं जो बच्चों में Air pollution के लंबे समय तक संपर्क में रहने के कारण होते हैं।

Air pollution ने शहरवासियों के बीच कई जीवनशैली संबंधी बीमारियों को बढ़ा दिया है। सर्दियों की शुरुआत के साथ, वायु प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा बन गया है।

सबसे ज्यादा प्रभावित बच्चे हैं। उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली पूरी तरह से विकसित नहीं होती है और वायु प्रदूषण बच्चों के प्रतिरक्षा के समग्र और स्वस्थ विकास के साथ छेड़छाड़ करता है।

बच्चों के फेफड़े अभी भी विकसित अवस्था में होते हैं और पार्टिकुलेट मैटर या जहरीली गैसें अक्सर श्वसन प्रणाली के समुचित विकास को नुकसान पहुंचाती हैं।

वायु प्रदूषण के कारण बच्चों में देखी जाने वाली सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं में ऊपरी और निचले श्वसन पथ के लक्षण शामिल हैं। 

Air pollution से कुछ स्वास्थ्य समस्याएं नीचे सूचीबद्ध हैं:

1. वायु प्रदूषण बच्चों में फेफड़ों के उचित विकास को बाधित कर सकता है। फेफड़ों के अंदर एल्वियोली या वायु थैली के विकास पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

2. सूखी खांसी, घरघराहट और सांस फूलना कुछ ऐसे लक्षण हैं जो लंबे समय तक वायु प्रदूषण के संपर्क में रहने के कारण होते हैं।

3. प्रारंभिक लक्षण बाद में वयस्कता में अवरोधक और प्रतिबंधात्मक प्रकार के फेफड़े के कार्य दोष का परिणाम हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: दिल्ली Air Pollution पर सुप्रीम कोर्ट: “देखो हम दुनिया को क्या संकेत भेज रहे हैं”

4. वायु प्रदूषण प्रवण शहरी क्षेत्रों में बच्चों में हृदय रोग अधिक प्रचलित हो रहे हैं।

5. सिस्टिक फाइब्रोसिस एक और बढ़ता हुआ विकार है जो उन बच्चों में देखा जा रहा है जो प्रदूषित हवा में सांस ले रहे हैं। जबकि यह रोग प्रकृति में अनुवांशिक है, यह तब और बढ़ जाता है जब बच्चे प्रदूषित हवा में सांस लेते हैं।

6. लंबे समय तक प्रदूषित हवा के संपर्क में रहने से बच्चों का मानसिक विकास भी बिगड़ सकता है।

7. अध्ययनों में पाया गया है कि वायु प्रदूषण से बच्चों में विटामिन डी की कमी भी हो सकती है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली Air Pollution पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार: “घर पर भी मास्क पहनें”

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से सलाह लें