spot_img
Newsnowसंस्कृतिMaharishi Dayanand Saraswati का भारतीय सामाजिक जीवन में योगदान

Maharishi Dayanand Saraswati का भारतीय सामाजिक जीवन में योगदान

महर्षि दयानंद एक उल्लेखनीय शिक्षाविद्, पड़ोसी सुधारक होने के साथ-साथ एक सांप्रदायिक देशभक्त भी थे।

Maharishi Dayanand Saraswati एक उल्लेखनीय शिक्षाविद्, पड़ोसी सुधारक होने के साथ-साथ एक सांप्रदायिक देशभक्त भी थे। दयानंद सरस्वती की सबसे उल्लेखनीय प्रतिबद्धता आर्य समाज की नींव हैं। इसके साथ ही उन्होंने कई ऐसे कार्य किए जो भारतीय समाज का अभिन्न अंग बन गए हैं। आइए जानते हैं उनसे मिली विरासत के बारे में

यह भी पढ़ें: Maharishi Dayanand Saraswati करोड़ों लोगों में आशा जगाते है; पीएम मोदी

Maharishi Dayanand Saraswati का जन्म

12 फरवरी 1824 को समाज और धर्म सुधारक Maharishi Dayanand Saraswati का जन्म हुआ था। उनका जन्म गुजरात में स्थित टंकारा में हुआ था। उन्होंने 7 अप्रैल, 1875 को आर्य समाज की स्थापना की। यह लेख स्वामी दयानंद के जीवन में महत्वपूर्ण कार्यों और घटनाओं को साझा करेगा। स्वामी दयानंद सरस्वती को ‘भारत का मार्टिन लूथर’ के नाम से भी जाना जाता है।

दयानन्द सरस्वती का धर्म सुधार

Maharishi Dayanand Saraswati's contribution
Maharishi Dayanand Saraswati का भारतीय सामाजिक जीवन में योगदान

स्वामी दयानंद सरस्वती ने पुजारियों को दान देने के खिलाफ प्रचार किया। उन्होंने स्थापित विद्वानों को भी चुनौती दी और वेदों के बल पर उनके खिलाफ बहस जीती। वे कर्मकांडों और अंधविश्वासों के घोर विरोधी थे।

उन्होंने अध्यात्मवाद और राष्ट्रवाद की प्रशंसा की और लोगों से स्वराज्य के लिए लड़ने की अपील की।

उन्होंने राष्ट्र की समृद्धि के लिए गायों के महत्व का भी आह्वान किया और राष्ट्रीय एकता के लिए हिंदी को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया।

मूर्ति पूजा को खारिज किया

उन्होंने 7 अप्रैल, 1875 को आर्य समाज की स्थापना की। इस सुधार आंदोलन के माध्यम से उन्होंने एक ईश्वर पर जोर दिया और मूर्ति पूजा को खारिज कर दिया। उन्होंने हिंदू धर्म में पुजारियों की उत्कृष्ट स्थिति के खिलाफ भी वकालत की।

उन्होंने जातियों की बहुलता का विरोध किया। इसके अलावा, उन्होंने सोचा कि निचली जातियों के ईसाई और इस्लाम में रूपांतरण के पीछे जाति की बहुलता मुख्य कारण है।

महिलाओं के लिए समान अधिकारों को बढ़ावा देना

Maharishi Dayanand Saraswati's contribution
Maharishi Dayanand Saraswati का भारतीय सामाजिक जीवन में योगदान

Maharishi Dayanand Saraswati ने महिलाओं के लिए समान अधिकारों को बढ़ावा देकर हमारे समाज में योगदान दिया, जैसे महिलाओं के लिए शिक्षा का अधिकार, भारतीय शास्त्रों को पढ़ना। उन्होंने अछूतों की स्थिति को ऊपर उठाने का प्रयास किया। उन्होंने सभी बच्चों की शिक्षा के महत्व पर जोर दिया और महिलाओं के लिए सम्मान और समान अधिकारों का प्रचार किया।

स्वामी दयानंद सरस्वती ने सभी जातियों की लड़कियों और लड़कों की शिक्षा के लिए वैदिक विद्यालयों की भी स्थापना की। इन स्कूलों के छात्रों को मुफ्त किताबें, कपड़े, आवास और भोजन दिया जाता था, और वेदों और अन्य प्राचीन शास्त्रों को पढ़ाया जाता था।

अस्पृश्यता के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व किया

Maharishi Dayanand Saraswati's contribution
Maharishi Dayanand Saraswati का भारतीय सामाजिक जीवन में योगदान

आर्य समाज ने अस्पृश्यता के खिलाफ एक लंबे समय तक आंदोलन का नेतृत्व किया और जाति भेद को कमजोर करने की वकालत की।

1886 में लाहौर में दयानद एंग्लोव्डिक ट्रस्ट एंड मैनेजमेंट सोसाइटी, समाज और उसकी गतिविधियों को एकजुट करने का एक प्रयास था।

प्राकृतिक या मानव निर्मित आपदाओं

Maharishi Dayanand Saraswati's contribution
Maharishi Dayanand Saraswati का भारतीय सामाजिक जीवन में योगदान

Maharishi Dayanand Saraswati ने विधवाओं की सुरक्षा और अन्य सामाजिक कार्यों जैसे प्राकृतिक या मानव निर्मित आपदाओं के पीड़ितों को राहत प्रदान करने के लिए भी काम किया।

उन्होंने कई पुस्तकें लिखीं। उनका प्रमुख योगदान सत्यार्थ प्रकाश है। अन्य पुस्तकों में संस्कारविधि, ऋग्वेद भाष्यम आदि शामिल हैं।

जिन लोगों को उन्होंने प्रेरित किया उनमें श्यामजी कृष्ण वर्मा, एमजी रानाडे, वीडी सावरकर, लाला हरदयाल, मदन लाल ढींगरा, भगत सिंह और कई अन्य शामिल हैं। स्वामी विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, बिपिन चंद्र पाल, वल्लभभाई पटेल, रोमेन रोलैंड आदि ने भी उनकी प्रशंसा की।

एस राधाकृष्णन के अनुसार, भारतीय संविधान में शामिल कुछ सुधार दयानंद से प्रभावित थे।

दयानंद की मौत

Maharishi Dayanand Saraswati's contribution
Maharishi Dayanand Saraswati का भारतीय सामाजिक जीवन में योगदान

Maharishi Dayanand Saraswati को जोधपुर के महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय के महल में रहने के दौरान जहर दिया गया था। अजमेर में लगी चोट के कारण उनकी मृत्यु हो गई, जहां उन्हें 26 अक्टूबर 1883 को बेहतर इलाज के लिए भेजा गया। वह 59 वर्ष के थे।