spot_img
NewsnowदेशMaharishi Dayanand Saraswati करोड़ों लोगों में आशा जगाते है; पीएम मोदी

Maharishi Dayanand Saraswati करोड़ों लोगों में आशा जगाते है; पीएम मोदी

मोदी ने समाज सुधारक और आर्य समाज के संस्थापक दयानंद सरस्वती की 200वीं जयंती समारोह का उद्घाटन किया।

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को समाज सुधारक और आर्य समाज के संस्थापक Maharishi Dayanand Saraswati की 200वीं जयंती के अवसर पर इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में एक सभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि देश की नीतियों और प्रयासों में कोई भेदभाव नहीं है और इसका उद्देश्य गरीबों, पिछड़ों और वंचितों की प्राथमिकता से सेवा करना है।

PM Modi said that Dayanand Saraswati gives hope
Maharishi Dayanand Saraswati करोड़ों लोगों में आशा जगाते है; पीएम मोदी

भारत ने पर्यावरण के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखाया

मोदी ने कहा कि भारत पर्यावरण के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि यह गर्व की बात है कि भारत इस साल जी20 की अध्यक्षता कर रहा है। मोदी ने कहा, “आज देश को अपनी विरासत पर जबरदस्त स्वाभिमान के साथ गर्व है। देश पूरे विश्वास के साथ कह रहा है कि हम आधुनिकता का परिचय देते हुए अपनी परंपराओं को मजबूत करेंगे।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ‘विरासत’ और ‘विकास’ की पटरियों पर चल रहा है। मोदी ने कहा कि जब वह कर्तव्य पथ पर चलने की बात करते हैं तो कुछ लोग कहते हैं कि वह कर्तव्य की बात करते हैं, अधिकार की नहीं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा, “Maharishi Dayanand Saraswati द्वारा दिखाया गया मार्ग करोड़ों लोगों में आशा जगाते है।” मोदी ने इस मौके को ऐतिहासिक बताया और कहा कि यह मानवता के भविष्य के लिए प्रेरणा है।

महिला सशक्तिकरण की आवाज बने Maharishi Dayanand

PM Modi said that Dayanand Saraswati gives hope
Maharishi Dayanand Saraswati करोड़ों लोगों में आशा जगाते है; पीएम मोदी

उन्होंने कहा कि Maharishi Dayanand Saraswati भारत की महिलाओं के सशक्तिकरण की आवाज बने और उन्होंने सामाजिक भेदभाव और छुआछूत के खिलाफ एक मजबूत अभियान चलाया।

मोदी ने कहा कि आज देश की बेटियां सियाचिन में तैनात होने से लेकर राफेल लड़ाकू विमान उड़ाने तक प्रमुख भूमिकाएं निभा रही हैं।

1824 में जन्मी सरस्वती ने तत्कालीन प्रचलित सामाजिक असमानताओं का मुकाबला करने के लिए काम किया। प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक बयान में कहा था कि आर्य समाज ने सामाजिक सुधारों और शिक्षा पर जोर देकर देश की सांस्कृतिक और सामाजिक जागृति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।