Newsnowजीवन शैलीLove के वास्तविक स्वरूप को समझना, ना की अपेक्षा रखना 

Love के वास्तविक स्वरूप को समझना, ना की अपेक्षा रखना 

Love एक ऐसा एहसास है जो इंसान की ज़िन्दगी के हर दिन को यादगार बना देता है। प्रेम में इतना रोमांच है की आपके हर पल को सुखन से भर देता है, प्रेम में इतनी गहराइयाँ है की किसी भी दूर की चीज़ को पास लाने में सहायक होता है। प्रेम हमें कर्तव्य परायण व् कर्मठ बनाता है।

ढाई अक्षर का शब्द ‘प्रेम’ /Love अपने में कितना कुछ समाये हुए है। हमारी सारी उम्र इसे ही जानने व् समझने में निकल जाती है की ‘प्रेम’ अपने आप में कितना निराला है, इसके अनेक रूप रंग है। इससे कोई भी अछूता नहीं।

Love एक ऐसा एहसास है जो इंसान की ज़िन्दगी के हर दिन को यादगार बना देता है। प्रेम में इतनी ताकत और गर्माहट होती है की यह रोते हुए को हँसा देता है और हँसते हुए को रुला देता है।

प्रेम में इतना रोमांच है की आपके हर पल को सुखन से भर देता है, प्रेम में इतनी गहराइयाँ है की किसी भी दूर की चीज़ को पास लाने में सहायक होता है।

Understanding true love without expectations
Love हमें कर्तव्य परायण व् कर्मठ बनाता है।

Love हमें कर्तव्य परायण व् कर्मठ बनाता है।

हम अनुभव करते हैं सुख-दुख की सार्वभौमिक स्थितियां, एक साथ आना, और प्रेम और रिश्तों का अंतिम विघटन है, चाहे हम कितना भी कम या कितना किसी से भी प्रेम करें।

इक्कीसवीं सदी में इंसानों के प्रेम अनुभवों, तकनीकी प्रगति और सांस्कृतिक परिवर्तनों के विकास के माध्यम से स्वतंत्र इच्छा प्रेम ने बहुत प्रगति की है।

यह भी पढ़ें: Cute Pet Names- प्यार का इज़हार महत्त्वपूर्ण है 

आज के अधिक उदार समाजों में, लोगों को अपने स्नेह के विषयों को चुनने और अपनी प्रशंसा और इच्छाओं को बहुत कम या बिना किसी परिणाम के व्यक्त करने की स्वतंत्रता दी जाती है।

हालाँकि, जिन समाजों में हम स्वतंत्र रूप से चुन सकते हैं कि हम किससे प्रेम करना चाहते हैं, हमने तलाक की दर में वृद्धि, विवाह दर में गिरावट और विभिन्न कारणों से विवाह में देरी करने वाले अधिक लोगों को देखा है।

Understanding true love without expectations
Love के वास्तविक स्वरूप को समझना, ना की अपेक्षा रखना

Love का भाव

किसी के पास कितनी भी संपत्ति और शक्ति क्यों न हो, वह अभी भी दूसरों के भावनात्मक और शारीरिक अपराधों के अधीन है। शायद हम खुद को ऐसे व्यक्तियों के रूप में सोच सकते हैं।

जो एक-दूसरे को सीखने और प्यार और अलगाव के अनुभवों को अलग-अलग रूपों में सीखने में मदद करते है। प्रतिबद्धता, विवाह, बेवफाई, अस्वीकृति, विश्वासघात और परित्याग।

इसलिए, बार-बार होने वाली असफलताओं, निराशाओं और दुखों का सामना करने में, हम आसानी से हार नहीं मानते हैं, और हम प्रेम/Love के वास्तविक स्वरूप को खोजना, सीखना और समझना जारी रखते हैं।

ऐसा करने से, हम अपने दैनिक संबंधों और संबंधों में निरंतर परिवर्तनों के उत्थान और पतन से परे हैं। जब हम अपने अनुभवों और सीखों से आगे निकल जाते हैं, तो प्यार अब आप, मैं, वह या हम का विचार नहीं रह जाता है।

यह भी पढ़ें: Making New Friends: नए दोस्त बनाने के 11 स्मार्ट तरीके

Love करने के लिए हमें अपने दर्द, भय, पछतावे, शर्म, अपराधबोध और भ्रम से मुक्त होना है, ताकि हम अपनी सीमित धारणाओं से परे हो सकें और प्रेम का भाव क्या है। यह समझ सके ?

हम अपनी सशर्त इच्छाओं को दूर कर सकते हैं जो रिश्तों में हमारी सोच, विश्वास और व्यवहार को निर्धारित करती हैं। हम अपने दिलों के प्रति सच्चे रहने के लिए ज्ञान और साहस विकसित करते हैं, और अल्पकालिक सुख और लाभ के लिए अपने डर और पीड़ा को नहीं छोड़ते हैं।

प्रेम/Love करने के लिए हमें अपने दर्द, भय, पछतावे, शर्म, अपराधबोध और भ्रम से मुक्त होना है, ताकि हम अपनी सीमित धारणाओं से परे हो सकें। 

हम अपनी सशर्त इच्छाओं को दूर कर सकते हैं जो रिश्तों में हमारी सोच, विश्वास और व्यवहार को निर्धारित करती हैं।

हम अपने दिलों के प्रति सच्चे रहने के लिए ज्ञान और साहस को विकसित करते हैं और अल्पकालिक सुख और लाभ के लिए अपने डर और पीड़ा को नहीं छोड़ते हैं।

Understanding true love without expectations
Love और अपेक्षा दोनों एक सिक्के के दो पहलू है,

Love और अपेक्षा

Love और अपेक्षा दोनों एक सिक्के के दो पहलू है, जिसके लिए हमारी ह्रदय में प्रेम होता है , उसी से हम अपेक्षा रखने लगते है, अपेक्षा रखना गलत तो नहीं है, लेकिन कही न कही यह इंसान को निर्भर और कमजोर बना देती है ।

ऐसा भी होता है लोग हम से कुछ अपेक्षा रखे हुए हों और हम उन पर खरे न उतरे तो बहुत आत्मग्लानि भी होती है, ज़िन्दगी में ऐसा बहुत बार हुआ है, जब हम अपेक्षाओं से ऊपर उठ जाते है तो ज़िंदगी में खुद से आगे बढ़ना सीखते है। जब तक हमारी अपेक्षा पूरी नहीं होती, हम कुछ नहीं कर सकते।

असल मजा ज़िन्दगी का तब आता है जब दुसरो से अपेक्षाएं पूरी न होने पर हम निराश होने के बावजूद भी चुनौती स्वीकार कर आत्मविश्वास के साथ उस अपेक्षा को पूरी करने में जुट जाते हैं।

बाद में पता चलता है की यह काम तो हम खुद ही कर सकते हैं। तब हम अपने को पहचान पाते है की हम असल में क्या हैं। यह बात भी है की जब बिना अपेक्षा किये कुछ मिलता है, तो और अधिक ख़ुशी होती है।

Understanding true love without expectations
प्रेम के वास्तविक स्वरूप को समझना ना की अपेक्षा रखना

हमें सबसे पहले “क्यों” से शुरुआत करनी होगी। पहली जगह में झगड़ा क्यों होता है? संक्षिप्त उत्तर अपेक्षाएं हैं। हम जिस संबंध को मानते हैं, वह साझेदारी में हमारे योगदान को आकार देगा। एक रिश्ते में अपेक्षाएं व्यक्तिपरक, पक्षपाती होती हैं और एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती हैं। कुछ लोग उम्मीद कर सकते हैं कि उनके पति या पत्नी कचरा बाहर निकाल देंगे और बदले में, वे उम्मीद कर सकते हैं कि आप हर सुबह टेबल पर नाश्ता करेंगे। लेकिन अगर दोनों लोग मानते हैं कि दूसरे व्यक्ति को इसके बारे में कभी भी बातचीत किए बिना यह स्वचालित रूप से पता है, तो इससे रिश्ते में तनाव हो सकता है।

यह भी पढ़ें: Friendship: एक शाम दोस्ती के नाम।

एक रिश्ते में उम्मीदों के साथ समस्या यह है कि वे एक राय की तरह हैं: हर किसी के पास एक है, और वे हमेशा दूसरे व्यक्ति के विचारों से मेल नहीं खाते हैं।

हां हम प्रेम/Love देने वाले के प्रति अहोभाव और कृतज्ञता रखें और निष्ठा भी। ज़िन्दगी में अपेक्षा एक अहम् किरदार है, प्रकृति का नियम है हर चीज़ एक दूसरे पर निर्भर होती है, छोटी से छोटी या बड़ी से बड़ी चीज़, अगर कोई चीज़ हम तक आती है तो उसमें बहुत से लोगो का योगदान होता है।

यह महसूस करना महत्वपूर्ण है कि बेमेल उम्मीदों से लड़ाई कैसे हो सकती है, इस बारे में बात करते हुए, हम यह नहीं कह रहे हैं कि आपको अपनी साझेदारी से कुछ भी उम्मीद करने का अधिकार नहीं है। इसके विपरीत सच है: आप सम्मान और सम्मान के साथ व्यवहार करने के लायक हैं, और ऐसा ही आपका साथी भी करता है। अंतरंगता और जुनून की अपेक्षा करें। बिना शर्त प्यार और समर्थन की अपेक्षा करें। ये रिश्ते में उचित अपेक्षाएं हैं और अपेक्षाओं की तुलना में मानकों की श्रेणी में अधिक आते हैं।

अवास्तविक उम्मीदों में ऐसी चीजें शामिल हैं जैसे कि अपने साथी को अपने मूल्यों को बदलने के लिए, अपनी सारी खुशी का स्रोत बनना या उनकी प्राकृतिक मर्दाना या स्त्री ध्रुवीयता के खिलाफ जाना। अपने साथी से यह अपेक्षा न करें कि वह आपकी तरह प्रतिक्रिया करेगा या महसूस करेगा। और कभी भी पूर्णता की अपेक्षा न करें। 

अकेले कुछ कर पाना असंभव सा है हम दूसरों के लिए करते रहते हैं और दूसरे भी हमारे लिए करते है।

Understanding true love without expectations
प्रेम/Love करने के लिए हमें अपने दर्द, भय, पछतावे, शर्म, अपराधबोध और भ्रम से मुक्त होना है

अपेक्षा भावना को कैसे नियंत्रित रखती है

अपने अनुभव से हम ने जाना की अगर हम किसी से अपेक्षा नहीं रखेंगे तो दुःख भी नहीं होगा, दुःख की जड़ है हमारी अपेक्षाएं। किन्तु अपेक्षाओं से हटकर रहना भी तो संभव नहीं। ऐसे में अपेक्षाओं को न्यूतम और यथार्थ के तल पर कैसे रखा जाये। यदि हम मानसिक रूप से तैयार न हो तो अगले को स्पष्ट कर दे। 

विवेक हमरे प्राथमिकता होनी चाहिए। हमें बस सजगता से लेने और देने दोनों में ही उनका संतुलन करना है ।  

प्रेम के बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें