Newsnowमंत्र-जापMaa Kalratri का मंत्र, प्रार्थना, स्तुति, ध्यान, स्तोत्र, कवच और आरती

Maa Kalratri का मंत्र, प्रार्थना, स्तुति, ध्यान, स्तोत्र, कवच और आरती

देवी पार्वती का यह रूप सभी रूपों में सबसे उग्र और सबसे हिंसक है। ऐसा माना जाता है कि पार्वती ने शुंभ और निशुंभ राक्षसों का वध करने के लिए यह रूप धारण किया था।

Maa Kalratri मां दुर्गा का सबसे विकराल रूप हैं। मां दुर्गा का यह रूप सभी राक्षसों, भूतों और नकारात्मक ऊर्जाओं का नाश करता है। देवी कालरात्रि को अपने विकराल रूप में “शुभ” या शुभ शक्ति होने के कारण, उन्हें देवी शुभंकरी भी कहा जाता है।

नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है। काल हिंदी में समय के साथ-साथ मृत्यु को भी संदर्भित करता है जबकि रात्रि रात या अंधकार / अज्ञानता को संदर्भित करता है। इसलिए, मां कालरात्रि वह है जो अंधकार की मृत्यु लाती है या जो अज्ञानता को समाप्त करती है। उन्हें आमतौर पर काली के रूप में भी जाना जाता है।

देवी पार्वती का यह रूप सभी रूपों में सबसे उग्र और सबसे हिंसक है। ऐसा माना जाता है कि पार्वती ने शुंभ और निशुंभ राक्षसों का वध करने के लिए अपनी सुनहरी त्वचा को हटा दिया, और देवी कालरात्रि के रूप में जानी जाने लगीं। कालरात्रि का रंग काला है और उनका वाहन गधा है। उन्हें 4 हाथों से दिखाया गया है। उनके बाएं हाथ में वज्र और खडग है। भले ही उनका रूप विकराल है, पर अपने भक्तों को अभय और वरद मुद्रा में आशीर्वाद देती है। कालरात्रि को काली, महाकाली, भद्रकाली, भैरवी, मृित्यू, रुद्रानी, चामुंडा, चंडी और दुर्गा भी कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Maa Katyayani: पूजा विधि, मंत्र, प्रार्थना, स्तुति, ध्यान, स्तोत्र, कवच और आरती

Maa Kalratri का आशीर्वाद पाने के लिए मंत्र प्रार्थना, स्तुति, ध्यान, स्तोत्र, कवच और आरती

Maa Kalratri का मंत्र

ॐ देवी कालरात्र्यै नमः॥

Om Devi Kalaratryai Namah॥

Maa Kalratri mantra stotra kavach and aarti
Maa Kalratri का मंत्र, प्रार्थना, स्तुति, ध्यान, स्तोत्र, कवच और आरती

Maa Kalratri की प्रार्थना

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्त शरीरिणी॥

वामपादोल्लसल्लोह लताकण्टकभूषणा।
वर्धन मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥

Ekaveni Japakarnapura Nagna Kharasthita।
Lamboshthi Karnikakarni Tailabhyakta Sharirini॥

Vamapadollasalloha Latakantakabhushana।
Vardhana Murdhadhwaja Krishna Kalaratrirbhayankari॥

Maa Kalratri की स्तुति

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

Ya Devi Sarvabhuteshu Ma Kalaratri Rupena Samsthita।
Namastasyai Namastasyai Namastasyai Namo Namah॥

Maa Kalratri mantra stotra kavach and aarti
Maa Kalratri का मंत्र, प्रार्थना, स्तुति, ध्यान, स्तोत्र, कवच और आरती

Maa Kalratri का ध्यान

करालवन्दना घोरां मुक्तकेशी चतुर्भुजाम्।
कालरात्रिम् करालिंका दिव्याम् विद्युतमाला विभूषिताम्॥

दिव्यम् लौहवज्र खड्ग वामोघोर्ध्व कराम्बुजाम्।
अभयम् वरदाम् चैव दक्षिणोध्वाघः पार्णिकाम् मम्॥

महामेघ प्रभाम् श्यामाम् तक्षा चैव गर्दभारूढ़ा।
घोरदंश कारालास्यां पीनोन्नत पयोधराम्॥

सुख पप्रसन्न वदना स्मेरान्न सरोरूहाम्।
एवम् सचियन्तयेत् कालरात्रिम् सर्वकाम् समृध्दिदाम्॥

Karalavandana Ghoram Muktakeshi Chaturbhujam।
Kalaratrim Karalimka Divyam Vidyutamala Vibhushitam॥

Divyam Lauhavajra Khadga Vamoghordhva Karambujam।
Abhayam Varadam Chaiva Dakshinodhvaghah Parnikam Mam॥

Mahamegha Prabham Shyamam Taksha Chaiva Gardabharudha।
Ghoradamsha Karalasyam Pinonnata Payodharam॥

Sukha Prasanna Vadana Smeranna Saroruham।
Evam Sachiyantayet Kalaratrim Sarvakam Samriddhidam॥

Maa Kalratri का स्तोत्र

हीं कालरात्रि श्रीं कराली च क्लीं कल्याणी कलावती।
कालमाता कलिदर्पध्नी कमदीश कुपान्विता॥

कामबीजजपान्दा कमबीजस्वरूपिणी।
कुमतिघ्नी कुलीनर्तिनाशिनी कुल कामिनी॥

क्लीं ह्रीं श्रीं मन्त्र्वर्णेन कालकण्टकघातिनी।
कृपामयी कृपाधारा कृपापारा कृपागमा॥

Him Kalaratri Shrim Karali Cha Klim Kalyani Kalawati।
Kalamata Kalidarpadhni Kamadisha Kupanvita॥

Kamabijajapanda Kamabijaswarupini।
Kumatighni Kulinartinashini Kula Kamini॥

Klim Hrim Shrim Mantrvarnena Kalakantakaghatini।
Kripamayi Kripadhara Kripapara Kripagama॥

Maa Kalratri mantra stotra kavach and aarti
Maa Kalratri का मंत्र, प्रार्थना, स्तुति, ध्यान, स्तोत्र, कवच और आरती

Maa Kalratri का कवच

ऊँ क्लीं मे हृदयम् पातु पादौ श्रीकालरात्रि।
ललाटे सततम् पातु तुष्टग्रह निवारिणी॥

रसनाम् पातु कौमारी, भैरवी चक्षुषोर्भम।
कटौ पृष्ठे महेशानी, कर्णोशङ्करभामिनी॥

वर्जितानी तु स्थानाभि यानि च कवचेन हि।
तानि सर्वाणि मे देवीसततंपातु स्तम्भिनी॥

Om Klim Me Hridayam Patu Padau Shrikalaratri।
Lalate Satatam Patu Tushtagraha Nivarini॥

Rasanam Patu Kaumari, Bhairavi Chakshushorbhama।
Katau Prishthe Maheshani, Karnoshankarabhamini॥

Varjitani Tu Sthanabhi Yani Cha Kavachena Hi।
Tani Sarvani Me Devisatatampatu Stambhini॥

Maa Kalratri की आरती

कालरात्रि जय जय महाकाली। काल के मुंह से बचाने वाली॥
दुष्ट संघारक नाम तुम्हारा। महाचंडी तेरा अवतारा॥
पृथ्वी और आकाश पे सारा। महाकाली है तेरा पसारा॥
खड्ग खप्पर रखने वाली। दुष्टों का लहू चखने वाली॥
कलकत्ता स्थान तुम्हारा। सब जगह देखूं तेरा नजारा॥
सभी देवता सब नर-नारी। गावें स्तुति सभी तुम्हारी॥
रक्तदन्ता और अन्नपूर्णा। कृपा करे तो कोई भी दुःख ना॥
ना कोई चिंता रहे ना बीमारी। ना कोई गम ना संकट भारी॥
उस पर कभी कष्ट ना आवे। महाकाली माँ जिसे बचावे॥
तू भी भक्त प्रेम से कह। कालरात्रि माँ तेरी जय॥