Newsnowमंत्र-जापAmbe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti: माँ जगदम्बे आरती से अपने कष्ट...

Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti: माँ जगदम्बे आरती से अपने कष्ट दूर करें

नियमित रूप से Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti का जप करना माँ अम्बे को प्रसन्न करने और आशीर्वाद प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है।

Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti मां दुर्गा की सबसे लोकप्रिय आरती में से एक है। मां दुर्गा विशेष रूप से नवरात्रि दुर्गा पूजा से संबंधित अधिकांश अवसरों पर देवी दुर्गा की ‘अंबे तू है जगदम्बे काली’ आरती का पाठ किया जाता है।

नियमित रूप से Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti का जप करना माँ अम्बे को प्रसन्न करने और आशीर्वाद प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है। 

Remove your troubles with Maa Jagdambe Aarti
नियमित रूप से Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti का जप करना माँ अम्बे को प्रसन्न करने और आशीर्वाद प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है।

अम्बे माता आद्य शक्ति है जो सर्वोच्च शक्ति है। वह माँ दुर्गा की अभिव्यक्ति है और देवी पार्वती का दूसरा नाम है। ‘अंबे तू है जगदम्बे काली’ एक हिंदू भजन (आरती) है जो भगवान शिव की पत्नी देवी पार्वती देवी को समर्पित है। उन्हें बहुचर मां, कालिका मां, भद्रकाली मां, मां भवानी और भी बहुत से नामों से जाना जाता है।

यह भी पढ़ें: जानिए Shri Kunj Bihari आरती का महत्व

Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti

Remove your troubles with Maa Jagdambe Aarti
विशेष रूप से नवरात्रि दुर्गा पूजा से संबंधित अधिकांश अवसरों पर देवी दुर्गा की ‘Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti’ का पाठ किया जाता है।

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,

तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती।

तेरे भक्त जनो पर माता भीर पड़ी है भारी।

दानव दल पर टूट पडो माँ करके सिंह सवारी॥

सौ-सौ सिहों से बलशाली, है अष्ट भुजाओं वाली,

दुष्टों को तू ही ललकारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

माँ-बेटे का है इस जग मे बडा ही निर्मल नाता।

पूत-कपूत सुने है पर ना माता सुनी कुमाता॥

सब पे करूणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली,

दुखियों के दुखडे निवारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना।

हम तो मांगें तेरे चरणों में छोटा सा कोना॥

सबकी बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,

सतियों के सत को सवांरती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti का अर्थ

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,

तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती।

हे माँ, तुम इस सारे जगत की माता हो काली;

जय हो, ओ दुर्गा खोपड़ी धारण करने वाली।

आपकी विचारशील मानसिकता के बारे में हिंदू गाते हैं!

हे माँ हम सब आपकी आरती गा रहे हैं!

तेरे भक्त जनो पर माता भीर पड़ी है भारी।

दानव दल पर टूट पडो माँ करके सिंह सवारी॥

सौ-सौ सिहों से बलशाली, है अष्ट भुजाओं वाली,

दुष्टों को तू ही ललकारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

हे माता, दुष्टात्माओं का एक बड़ा दल आपके प्रेमियों को परेशान कर रहा है।

हे माता, कृपा करके अपने सिंह पर चढ़कर उनका वध कर दो!

आप कई शेरों से अधिक जमीनी हैं;

आपके आठ हाथ हैं;

आप वह हैं जो द्वेष के रंगों को चुनौती देते हैं।

हे माँ हम सब आपकी आरती गा रहे हैं!

माँ-बेटे का है इस जग मे बडा ही निर्मल नाता।

पूत-कपूत सुने है पर ना माता सुनी कुमाता॥

सब पे करूणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली,

दुखियों के दुखडे निवारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

इस दुनिया में माँ और बच्चे का रिश्ता प्यारा है।

हमने सुना है कि एक नौजवान कपूत हो सकता है, हालांकि, हमने ऐसा कभी नहीं किया है

एक माँ के कुमाता होने के बारे में नहीं जाना जाता है!

हे, आप हम में से प्रत्येक पर उदारता और अमृत बरसाएं!

आप दयनीय व्यक्तियों के मुद्दों का ध्यान रखते हैं।

हे माँ हम सब आपकी आरती गा रहे हैं!

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना।

हम तो मांगें तेरे चरणों में छोटा सा कोना॥

सबकी बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,

सतियों के सत को सवांरती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

हम नकद और धन का अनुरोध नहीं कर रहे हैं,

न चाँदी न सोना।

हम सिर्फ आपके दिल के एक कोने में अपनी जगह की याचना कर रहे हैं।

हे, आप ही हैं जो सभी के मुद्दों का ख्याल रखती हैं,

जो हमें बेइज्जती से दूर करता है,

वास्तविक व्यक्तियों की वास्तविकता को कौन साफ ​​करता है।

हे माँ हम सब आपकी आरती गा रहे हैं!

सामान्यतःपूछे जाने वाले प्रश्न:

Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti कैसे करें?

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, अम्बे तू है जगदम्बे काली आरती से सबसे अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए, सुबह स्नान करने के बाद और देवी काली की मूर्ति या तस्वीर के सामने आरती का जाप करें। लाभ को अधिकतम करने के लिए आरती के अर्थ को समझने का प्रयास करें।

Remove your troubles with Maa Jagdambe Aarti
नियमित रूप से Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti का जप करना माँ अम्बे को प्रसन्न करने और आशीर्वाद प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है।

Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti का जाप करने के क्या लाभ हैं?

अम्बे तू है जगदम्बे काली आरती के नियमित जप से मन को शांति मिलती है, बुराई से दूर रहता है और आपका जीवन समृद्ध, समृद्ध और स्वस्थ बनता है।

अम्बे तू है जगदम्बे काली आरती किसको समर्पित है?

Ambe Tu hai Jagdambe Kaali Aarti मां दुर्गा, अम्बे माता को समर्पित है जो हिंदू धर्म में मां हैं।

माँ दुर्गा के विभिन्न अवतार क्या हैं?

माँ दुर्गा (गौरी का पर्यायवाची) या (पार्वती) के 9 रूप हैं: शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री।