सोमवार, अक्टूबर 25, 2021
Newsnowसंस्कृतिVaishakha Purnima 2021: वैशाख पूर्णिमा पूजा कब और कैसे करें

Vaishakha Purnima 2021: वैशाख पूर्णिमा पूजा कब और कैसे करें

Vaishakha Purnima 2021: 26 मई को है वैशाख पूर्णिमा। जानिए इस साल घर पर कब और कैसे करें वैशाख पूर्णिमा पूजा

Vaishakha Purnima 26 मई को है। इस पूर्णिमा या पूर्णिमा के दिन को सबसे शुभ दिनों में से एक माना जाता है जब लोग विशिष्ट उद्देश्यों के लिए घर पर विशेष पूजा करना पसंद करते हैं, दान कार्य में संलग्न होते हैं, नए घरों में जाते हैं, और अन्य चीजें जो उनके लिए महत्वपूर्ण हैं, वे सारे शुभ काम वैशाख पूर्णिमा में कर सकते हैं। वैशाख एक पवित्र महीना है और हिंदू भक्त वैशाख पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा करते हैं। कई लोग इस दिन घर में सत्यनारायण पूजा भी करते हैं।

Bhagavad Gita : मानवता के लिए जरुरी है गीता ज्ञान, कब मनाई जाएगी गीता जयंती, जानें

वैशाख पूर्णिमा कब है?

 ग्रेगोरियन कैलेंडर (Gregorian calendar) के अनुसार, वैशाख पूर्णिमा (Vaishakha Purnima) वैशाख मास की पूर्णिमा (Full Moon Day) के दिन मनाई जाती है। यह दिन आमतौर पर मई या जून में पड़ता है। इस साल वैशाख पूर्णिमा 26 मई को है। पूर्णिमा तिथि या समय 25 मई को रात 8:29 बजे शुरू होगा और 26 मई को शाम 4:43 बजे समाप्त होगा।

वैशाख पूर्णिमा का क्या महत्व है?

हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार इस दिन का अत्यधिक महत्व है। इस दिन बुद्ध पूर्णिमा या गौतम बुद्ध (Buddha Purnima or the birth of Gautama Buddha) का जन्म भी मनाया जाता है। भगवान विष्णु (Lord Vishnu) के भक्तों का मानना ​​है कि भगवान की पूजा करने और दान या दान में संलग्न होने से उनके जीवन में बहुतायत, शांति और समृद्धि आती है। लोग वैशाख पूर्णिमा का व्रत भी रखते हैं।

Maa Laxmi का आर्शीवाद पाना चाहता है, रखें कुछ बातों का ध्यान, नहीं होगी धन का कमी।

1.घर पर कैसे करें वैशाख पूर्णिमा पूजा?

2.वैशाख पूर्णिमा के दिन, भक्त सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करते हैं।

3.लोग पूर्णिमा तिथि समाप्त होने तक इस दिन उपवास रखते हैं।

4.घर के अलंकार को साफ किया जाता है और पीले फूलों, धूप और दीयों से सजाया जाता है।

5.घर के देवता या भगवान विष्णु से प्रार्थना की जाती है।

6.लोग वैशाख पूर्णिमा पर सत्यनारायण पूजा करते हैं।

7.पूजा के दौरान श्रद्धालु सत्यनारायण कथा का जाप करते हैं।

8.दूध, घी, शहद, गुड़, नारियल और सूजी से बना एक विशेष प्रसाद भगवान विष्णु या सत्यनारायण के सामने रखा जाता है।

बजरंग बाण (Bajrang Baan) का पाठ बहुत चमत्कारिक होता है, पहले जानें विधि और नियम।

9.चंदन का लेप, सुपारी, पान के पत्ते और फल भी भगवान को अर्पित किए जाते हैं।

10.चंद्रोदय के बाद, भक्त चंद्रमा की पूजा करते हैं और अर्घ्य देते हैं।