spot_img
Newsnowदेशभारत में 2,706 नए COVID-19 मामले, 25 मौतें

भारत में 2,706 नए COVID-19 मामले, 25 मौतें

24 घंटे की अवधि में सक्रिय COVID-19 केसलोएड में 611 मामलों की वृद्धि दर्ज की गई है।

नई दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सोमवार को अपडेट किए गए आंकड़ों के अनुसार, एक दिन में 2,706 नए COVID-19 संक्रमण दर्ज किए जाने के साथ, भारत में COVID-19 मामलों की कुल संख्या बढ़कर 4,31,55,749 हो गई, जबकि सक्रिय मामले बढ़कर 17,698 हो गए।

COVID-19 से 24 घंटे की अवधि में 25 मौतें

2,706 new COVID-19 cases in India, 25 deaths
(प्रतीकात्मक) भारत में 2,706 नए मामले, 25 मौतें

25 ताजा मौतों के साथ मरने वालों की संख्या बढ़कर 5,24,611 हो गई, जो सुबह 8 बजे अपडेट किया गया डेटा है।

मंत्रालय ने कहा कि सक्रिय मामलों में कुल संक्रमणों का 0.04 प्रतिशत शामिल है, जबकि राष्ट्रीय COVID-19 की वसूली दर 98.74 प्रतिशत थी।

24 घंटे की अवधि में सक्रिय COVID-19 केसलोएड में 611 मामलों की वृद्धि दर्ज की गई है।

मंत्रालय के अनुसार, दैनिक सकारात्मकता दर 0.97 प्रतिशत और साप्ताहिक सकारात्मकता दर 0.58 प्रतिशत दर्ज की गई।

2,706 new COVID-19 cases in India, 25 deaths
भारत में 2,706 नए मामले, 25 मौतें

बीमारी से स्वस्थ होने वालों की संख्या बढ़कर 4,26,13,440 हो गई, जबकि मृत्यु दर 1.22 प्रतिशत दर्ज की गई।

राष्ट्रव्यापी COVID-19 टीकाकरण अभियान के तहत अब तक देश में प्रशासित संचयी खुराक 193.31 करोड़ से अधिक हो गई है।

2,706 new COVID-19 cases in India, 25 deaths
भारत में 2,706 नए मामले, 25 मौतें

भारत का COVID-19 टैली 7 अगस्त, 2020 को 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख, 5 सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख को पार कर गया था। यह 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख को पार कर गया था। , 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख और 19 दिसंबर को एक करोड़ के आंकड़े को पार कर गया। देश ने 4 मई को दो करोड़ और पिछले साल 23 जून को तीन करोड़ का आंकड़ा पार किया।

25 नए अपनी जान गवाने वाले लोगों में केरल के 23 और महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल के एक-एक व्यक्ति शामिल हैं।

देश में अब तक कुल 5,24,611 मौतें हुई हैं, जिनमें महाराष्ट्र से 1,47,859, केरल से 69,723, कर्नाटक से 40,106, तमिलनाडु से 38,025, दिल्ली से 26,208, उत्तर प्रदेश से 23,519 और पश्चिम बंगाल से 21,204 लोगों की मौत हुई है।

मंत्रालय ने जोर देकर कहा कि 70 प्रतिशत से अधिक मौतें सहरुग्णता के कारण हुईं।

मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर कहा, “हमारे आंकड़ों का भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के साथ मिलान किया जा रहा है।” आंकड़ों का राज्यवार वितरण आगे सत्यापन और सुलह के अधीन है।