Newsnowक्राइमHardoi में इंसाफ़ के लिए भटकती एक अभागी माँ

Hardoi में इंसाफ़ के लिए भटकती एक अभागी माँ

Hardoi में 1 माह के बेटी के शव को सीने से लगाकर इंसाफ के लिए दर दर भटक रही एक अभागी माँ।

Hardoi/हरदोई/यूपी: वैसे तो यूपी पुलिस अपने किसी न किसी कारनामे के ख़ातिर सुर्खियों में रहती है, लेकिन इस बार यूपी पुलिस की सुर्खियों के पीछे किसी माँ की तड़प और उसके कलेजे से निकली चीखे हैं। 

क्या हाल होगा उस माँ का जो अपनी कोख से जन्मी बेटी की लाश सीने से लगाकर न्याय के लिए दर दर भटक रही है। न्याय के नाम एक अभागी माँ को यूपी पुलिस से मिलती है तो सिर्फ और सिर्फ गालियां। 

बात यही नही खत्म हुई यूपी पुलिस ने एक माँ को जो की अपने सीने से लगाए 1 माह के बेटी के शव को लेकर थाने पहुँची, उसको दुत्कारते हुए भगा दिया। इंसाफ के नाम पर खाकी वर्दी ने एक अभागी माँ को गालियां दी लेकिन उसे इंसाफ न दे सके।

न्याय के लिए Hardoi में पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुँची। 

A hapless mother wandering for justice in Hardoi
Hardoi में इंसाफ़ के लिए भटकती एक अभागी माँ

यूपी के Hardoi में न्याय के लिए दर दर भटक रही एक अभागी माँ अपनी गोद मे 1 माह की बेटी की लाश लेकर न्याय की गुहार लगाने पुलिस अधीक्षक कार्यालय हरदोई पहुची। 

थाने से भगाए जाने के बाद उस अभागी माँ ने आलाधिकारियों ने इंसाफ की गुहार लगाई जिस पर अपर पुलिस अधीक्षक ने उस माँ की पूरे धैर्य से दर्द भरी कहानी सुनी, जिसमें 6 दिन पहले पारिवारिक विवाद में हुई मारपीट के बाद पीड़ित महिला व उसकी 1 माह की बेटी गम्भीर रूप से घायल हो गई थी। 

A hapless mother wandering for justice in Hardoi
Hardoi में इंसाफ़ के लिए भटकती एक अभागी माँ

बच्ची जिसकी उपचार के दौरान आज मौत हो गई, मौत होने के बाद जब महिला अपनी 1 माह की बेटी के शव के साथ शिकायत दर्ज कराने पाली थाने पहुँची तो पीड़िता को वहां मौजूद पुलिस कर्मियों ने जमकर गालियां दी और थाने से भाग जाने को कहा। 

A hapless mother wandering for justice in Hardoi
Hardoi में इंसाफ़ के लिए भटकती एक अभागी माँ

रो रो कर माँ ने अपनी आप बीती Hardoi में अपर पुलिस अधीक्षक को सुनाई और एक अधिकारी होने का फर्ज निभाते हुए अपर पुलिस अधीक्षक दुर्गेश सिंगज ने मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया और साथ ही दोषियों पर विधिक कार्यवाही की बात कही।

एक तरफ़ जहाँ थाने से महिला को दुत्कारा गया वहीं अपर पुलिस अधीक्षक ने उस माँ की फ़रियाद सुनी और उसको न्याय दिलाने के लिए हर सम्भव प्रयास शुरू किए। हमारे समाज को ऐसे ही पुलिस कर्मियों की आज आवश्यकता है।

क्राइम के अधिक समाचार के लिए यहां क्लिक करें