spot_img
Newsnowजीवन शैलीAlum बॉडी को पहुंचाती है 4 गजब फायदे

Alum बॉडी को पहुंचाती है 4 गजब फायदे

एलम की विविधता और स्वास्थ्य और स्वस्थ जीवन को बढ़ाने में इसकी प्रभावी और विविधता इसे प्राकृतिक स्वास्थ्य उपचारों के लिए एक मूल्यवान योगदान बनाते हैं।

Alum, जिसे पोटाशियम एल्युमिनियम सल्फेट भी कहा जाता है, एक प्राकृतिक खनिज है जिसका उपयोग सदियों से स्वास्थ्य और चिकित्सा लाभों के लिए किया गया है। यह अक्सर अपने जल शोधन में प्रयोग किया जाता है, लेकिन एलम शरीर के लिए कई चौंकानेवाले लाभ प्रदान करता है। यहां चार शानदार एलम के लाभ हैं, साथ ही उनके विस्तृत व्याख्यान वैज्ञानिक अध्ययनों और पारंपरिक ज्ञान के समर्थन में:

1. एंटीसेप्टिक और आस्त्रिंगेंट गुण

काम कैसे करता है

Alum के एंटीसेप्टिक और आस्त्रिंगेंट गुण विभिन्न त्वचा समस्याओं के इलाज में प्रभावी होते हैं। इसकी त्वचा को संकुचित और कसा होने की क्षमता घावों के गुड़वाने, रक्तस्राव को कम करने और संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद करती है।

Alum provides 4 amazing benefits to the body

अनुप्रयोग

  • घाव भराई: छोटे कटों और चोटों पर Alum पाउडर लगाया जा सकता है ताकि रक्तस्राव को रोका जा सके और त्वचा के गुड़वाने को बढ़ावा मिले। इसकी एंटीसेप्टिक गुण संक्रमणों को रोकती हैं, जिससे शुद्ध घाव होता है।
  • त्वचा को कसावट देना: चेहरे की मास्क में एलम का नियमित उपयोग त्वचा को कसा होने में मदद कर सकता है और झुर्रियों और नकारात्मक रेखाओं को कम करने में मदद कर सकता है। इसकी आस्त्रिंगेंट प्रभाव त्वचा के ऊतकों को संकुचित करता है, जिससे एक सख्त दिखने को मिलता है।

वैज्ञानिक प्रमाण

“जर्नल ऑफ क्यूटेनियस एंड एस्थेटिक सर्जरी” में प्रकाशित एक अध्ययन ने Alum के गुणधर्म को घाव भराई और संक्रमण प्रतिरोध में प्रभावी पाया। शोध ने सुझाव दिया कि एलम की एंटीमाइक्रोबियल गुणधर्म घावों पर बैक्टीरियल बोझ को कम करने में मदद करते हैं, जिससे बेहतर और तेज भराई हो सके।

2. मौखिक स्वास्थ्य लाभ

काम कैसे करता है

Alum को मौखिक देखभाल में बकाया बकाया परंपरागत रूप से उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह बैक्टीरिया को संघटित करने और मसूड़ों को मजबूत करने में सहायक होता है। इसकी आस्त्रिंगेंट प्रकृति मसूड़ों को संघटित करने में मदद करती है और मौखिक संक्रमणों को कम करने में मदद करती है।

अनुप्रयोग

  • माउथवॉश: एलम के एक समाधान का उपयोग माउथवॉश के रूप में किया जा सकता है ताकि बैक्टीरिया को हटाया जा सके और साँस फूलाया जा सके। यह विशेष रूप से मसूड़ों के बीमारियों और अन्य मसूड़ों के रोगों के खिलाफ प्रभावी है।
  • दाँत दर्द से राहत: प्रभावित दांत पर सीधे थोड़ा सा एलमAlum पाउडर लगाना दर्द और असहनीयता को कम करने में मदद कर सकता है। इसकी एंटीसेप्टिक गुणधर्म संक्रमण को कम करते हैं और अस्थायी राहत प्रदान करते हैं।

वैज्ञानिक प्रमाण

“इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियोडोंटोलॉजी” के जर्नल में प्रकाशित अध्ययन ने माउथवॉश में एलम की प्रभाविता को दिखाया। शोध ने दिखाया कि Alum माउथवॉश ने तार प्लाक और मसूड़ों की सूजन को कम किया, जिससे इसे मौखिक देखभाल रूटीन में उपयोग करने का समर्थन किया।

Alum provides 4 amazing benefits to the body

3. पसीना और गंदगी नियंत्रण

काम कैसे करता है

Alum के प्राकृतिक एंटीपरस्पिरेंट गुणधर्म प्राकृतिक डिओडरेंट्स में एक लोकप्रिय तत्व हैं। इसकी बैक्टीरिया की विकास को रोकने की क्षमता पसीने और गंदगी उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करती है।

अनुप्रयोग

  • प्राकृतिक डिओडरेंट: व्यावसायिक डिओडरेंट्स के लिए प्राकृतिक विकल्प के रूप में Alum का उपयोग किया जा सकता है। यह हाइपोएलर्जेनिक है और संवेदनशील त्वचा के लिए उपयुक्त है। बस एलम के एक ब्लॉक को गीला करें और अंडरार्म्स पर लगाएं ताकि पसीने और गंदगी को नियंत्रित किया जा सके।
  • पैर की बदबू: पानी और एलम के समाधान में पैर भिगोने से पैर की बदबू को कम करने में मदद मिल सकती है। इससे बदबू के कारण आने वाली बैक्टीरिया मर जाते हैं और पसीने का उत्पादन कम होता है।

वैज्ञानिक प्रमाण

“डर्मेटोलॉजिकल ट्रीटमेंट” के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन ने हाइपरहाइड्रोसिस (अत्यधिक पसीना) को नियंत्रित करने में एलम के प्रभावकारिता को खोजा। इस अध्ययन ने दिखाया कि Alum पसीने का उत्पादन को कम करने में प्रभावी और सुरक्षित विकल्प है, जिसमें कम साइड इफेक्ट्स होते हैं।

Alum provides 4 amazing benefits to the body

4. पाचन स्वास्थ्य

काम कैसे करता है

एलम का उपयोग पाचन समस्याओं जैसे कि डायरिया और डिसेंट्री का इलाज करने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा में किया गया है। इसकी आस्त्रिंगेंट गुणधर्म गुड़वाने के ऊतकों को संकुचित करने में मदद करते हैं, सूजन को कम करते हैं और अत्यधिक तरलता को रोकते हैं।

Alum: चेहरे पर डार्क स्पॉट पीछा नहीं छोड़ रहे तो फिटकरी से बनाएं नेचुरल क्रीम

अनुप्रयोग

  • डायरिया का इलाज: पानी के साथ मिश्रित थोड़ी मात्रा में एलम का सेवन करने से डायरिया के लक्षण को कम किया जा सकता है। इसकी आस्त्रिंगेंट गुणधर्म आंत्र में सूजन को कम करते हैं और अत्यधिक तरलता को रोकते हैं।
  • पेट के अल्सर: एलम के सुखाने गुणधर्म अल्सर के लक्षणों में राहत प्रदान करने में मदद कर सकते हैं, क्योंकि इससे पेट की लाइनिंग को संरक्षित किया जा सकता है और चिढ़चिढ़ापन को कम किया जा सकता है।

वैज्ञानिक प्रमाण

“इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंसेज एंड रिसर्च” में प्रकाशित शोध ने पाचन विकारों में एलम के उपयोग की समर्थना की। अध्ययन ने दिखाया कि एलम डायरिया के लक्षणों को कम करने में प्रभावशाली है और पाचन स्वास्थ्य को प्रबंधित करने में अपनी भूमिका को दर्शाया।

निष्कर्ष

एलम की विविधता और स्वास्थ्य और स्वस्थ जीवन को बढ़ाने में इसकी प्रभावी और विविधता इसे प्राकृतिक स्वास्थ्य उपचारों के लिए एक मूल्यवान योगदान बनाते हैं। इसकी एंटीसेप्टिक, आस्त्रिंगेंट और एंटीमाइक्रोबियल गुणधर्म घाव भराई और मौखिक देखभाल से लेकर पसीने और पाचन स्वास्थ्य तक कई स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज में मदद करते हैं। जबकि यह सामान्य रूप से त्वचा पर और अनैतिक अंतर्निर्णय के लिए सुरक्षित होता है, लेकिन इसे उचित रूप से उपयोग करने और विशेषज्ञ की सलाह लेने के बिना अंतर्निर्णय के लिए उपयोग करना अत्यधिक महत्वपूर्ण है।

अन्य ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

spot_img

सम्बंधित लेख