Newsnowदेश3 जोन, अलग-अलग बैठकें: Elections 2024 के लिए बीजेपी की अंदरूनी रणनीति

3 जोन, अलग-अलग बैठकें: Elections 2024 के लिए बीजेपी की अंदरूनी रणनीति

उत्तर, दक्षिण और पूर्व जोन का सीमांकन कर दिया गया है और इन क्षेत्रों की अलग-अलग बैठकें 6, 7 और 8 जुलाई को होंगी।

नई दिल्ली: पार्टी सूत्रों ने कहा कि भाजपा जल्द ही Elections 2024 की तैयारियों को जमीनी स्तर पर ले जाएगी, जिसके लिए उन्होंने 543 सीटों पर संगठनात्मक सुविधा के लिए तीन जोन तैयार किए हैं।

यह भी पढ़ें: Amit Shah बिहार रैली को संबोधित करते हुए: “कांग्रेस 20 साल से ‘राहुल बाबा’ को लॉन्च कर रही है”

Elections 2024 की अंदरूनी रणनीति

BJP's internal strategy for Elections 2024
3 जोन, अलग-अलग बैठकें: Elections 2024 के लिए बीजेपी की अंदरूनी रणनीति

उत्तर, दक्षिण और पूर्व क्षेत्रों का सीमांकन कर दिया गया है और इन क्षेत्रों की अलग-अलग बैठकें 6, 7 और 8 जुलाई को होंगी। जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, राजस्थान, गुजरात, दमन दीव-दादरा और नगर हवेली , उत्तरी क्षेत्र में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, दिल्ली और हरियाणा में 7 जुलाई को निर्धारित किया गया है।

पूर्वी क्षेत्र में बिहार, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, असम, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, मेघालय और त्रिपुरा जैसे राज्य में छह जुलाई को बैठक होंगी।

दक्षिण क्षेत्र में केरल, तमिलनाडु, पुडुचेरी, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, मुंबई, गोवा, अंडमान और निकोबार और लक्षद्वीप होंगे। इस क्षेत्र की बैठक 8 जुलाई को हैदराबाद में आयोजित की गई है।

Lok Sabha Elections 2024 की बैठकों में प्रमुख नेता मौजूद रहेंगे

BJP's internal strategy for Elections 2024
3 जोन, अलग-अलग बैठकें: Elections 2024 के लिए बीजेपी की अंदरूनी रणनीति

इन बैठकों में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और संगठन मंत्रियों समेत उस क्षेत्र के प्रमुख नेता मौजूद रहेंगे।

इन बैठकों में संबंधित राज्यों के प्रभारी, प्रदेश अध्यक्ष, संगठन मंत्री, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, सांसद, विधायक और राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य भी मौजूद रहेंगे।

यह भी पढ़ें: Election Results 2023: त्रिपुरा, नागालैंड में बनेगी बीजेपी सरकार, मेघालय में त्रिशंकु विधानसभा

राष्ट्रीय और स्थानीय मुद्दों पर जोर देने के लिए भाजपा इन सभी क्षेत्रों के लिए अलग-अलग रणनीति और मुद्दे तय करेगी।

इन बैठकों में संबंधित नेताओं को नई जिम्मेदारियां भी दी जाएंगी।