Newsnowमंत्र-जापDevi Mahagauri: मंत्र, प्रार्थना, ध्यान, स्तुति, स्तोत्र, कवच, आरती और चालीसा

Devi Mahagauri: मंत्र, प्रार्थना, ध्यान, स्तुति, स्तोत्र, कवच, आरती और चालीसा

ऐसा माना जाता है कि जो लोग माता महागौरी की आरती गाते हैं और नवरात्रि के आठवें दिन नवरात्रि कथा सुनते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। महागौरी का अर्थ है, वह रूप जो कि सौन्दर्य से भरपूर है, प्रकाशमान है पूर्ण रूप से सौंदर्य में डूबा हुआ है।

Devi Mahagauri करुणा, पवित्रता और शांति की देवी हैं। नवरात्रि के आठवें दिन महागौरी माता की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग माता महागौरी की आरती गाते हैं और नवरात्रि के आठवें दिन नवरात्रि कथा सुनते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

Devi Mahagauri: Mantra, Praise, Stotra, Aarti and Chalisa
Devi Mahagauri की पूजा अष्टमी (नवरात्रि के आठवें दिन) पर की जाती है।

Devi Mahagauri के गोरे रंग की तुलना शंख, चंद्रमा और चमेली के फूलों की सफेदी से की जाती है। (‘महा’ का अर्थ है महान और ‘गौरी’ का अर्थ सफेद है)। सफेद वृषभ (बैल) पर विराजमान देवी महागौरी को तीन आंखों और चार भुजाओं के साथ चित्रित किया गया है। अपने भक्तों को आशीर्वाद देने और उनके जीवन से सभी भय को दूर करने के लिए, उनकी दो भुजाएँ वरदा और अभय मुद्रा में हैं। उनकी दूसरी भुजाओं में त्रिशूल और डमरू हैं। उनके कपड़े और आभूषण सफेद और शुद्ध हैं।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, सोलह वर्ष की आयु में देवी शैलपुत्री अत्यंत सुंदर थीं और उन्हें गोरा रंग प्राप्त था। उनके अत्यधिक गोरे रंग के कारण उन्हें देवी महागौरी के नाम से जाना जाता था।

Devi Mahagauri का शासी ग्रह

Devi Mahagauri: Mantra, Praise, Stotra, Aarti and Chalisa
Devi Mahagauri का शासन ग्रह

ऐसा माना जाता है कि राहु ग्रह देवी महागौरी द्वारा शासित है।

Devi Mahagauri का स्वरूप

Devi Mahagauri और देवी शैलपुत्री की सवारी पर्वत बैल है और इसी वजह से उन्हें वृषारुधा (वृषारुढ़) भी कहा जाता है। देवी महागौरी को चार हाथों से दर्शाया गया है। वह एक दाहिने हाथ में त्रिशूल रखती है और दूसरा दाहिना हाथ अभय मुद्रा में रखती है। वह एक बाएं हाथ में डमरू को सुशोभित करती है और दूसरे बाएं हाथ को वरद मुद्रा में रखती है।

Devi Mahagauri का विवरण

जैसा कि नाम से पता चलता है, देवी महागौरी अत्यंत निष्पक्ष हैं। अपने गोरे रंग के कारण Devi Mahagauri की तुलना शंख, चंद्रमा और कुंड (कुंड) के सफेद फूल से की जाती है। वह केवल सफेद कपड़े पहनती हैं और इसी वजह से उन्हें श्वेतांबरधारा (श्वेतांबरधरा) के नाम से भी जाना जाता है।

Devi Mahagauri के पीछे की पौराणिक कथा

पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी पार्वती ने भगवान शिव को अपने पति के रूप में पाने के लिए घोर तपस्या की, जिसके कारण वह काली और कमजोर हो गईं। उनकी दृढ़ता और शुद्ध भक्ति को देखकर, भगवान शिव उनसे शादी करने के लिए तैयार हो गए और देवी पार्वती को गंगा के पवित्र जल से स्नान करवाया। इस पर उनका रंग सुनहरा और दीप्तिमान हो गया। तभी से उन्हें महागौरी कहा जाता है।

shiv parvati
Devi Mahagauri ने भगवान शिव को अपने पति के रूप में पाने के लिए घोर तपस्या की थी

Devi Mahagauri का प्रसाद

नवरात्रि पूजा के आठवें दिन देवी महागौरी को केला और नारियल अर्पित करने से आपको अपनी मनोकामनाएं और दिव्य सुख की प्राप्ति हो सकती है।

Devi Mahagauri का मंत्र

ॐ देवी महागौर्यै नमः॥

Om Devi Mahagauryai Namah॥

माँ महागौरी का बीज मंत्र

श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम:

Shree Kleem Hreem Vardayai Namah

Devi Mahagauryai मंत्र के लाभ

नवरात्रि पूजा के आठवें दिन देवी महागौरी की पूजा विशेष अनुष्ठान करके और इस मंत्र का जाप करने से उर्वरता, स्वास्थ्य और धन की प्राप्ति होती है। चूंकि देवी पार्वती ने कठोर तपस्या के बाद भगवान शिव से विवाह किया था, अविवाहित लड़कियां इस दिन उपयुक्त साथी पाने के लिए महागौरी की पूजा करती हैं।

Devi Mahagauri: Mantra, Praise, Stotra, Aarti and Chalisa
महागौरी मंत्र, प्रार्थना, ध्यान, स्तुति, स्तोत्र, कवच आरती और चालीसा

प्रार्थना

श्वेते वृषेसमारूढा श्वेताम्बरधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा॥

Shwete Vrishesamarudha Shwetambaradhara Shuchih।
Mahagauri Shubham Dadyanmahadeva Pramodada॥

स्तुति

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ महागौरी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

Ya Devi Sarvabhuteshu Maa Mahagauri Rupena Samsthita।
Namastasyai Namastasyai Namastasyai Namo Namah॥

यह भी पढ़ें: Maa Mahagauri: इतिहास, उत्पत्ति और पूजा का महत्व

ध्यान

वन्दे वाञ्छित कामार्थे चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
सिंहारूढा चतुर्भुजा महागौरी यशस्विनीम्॥
पूर्णन्दु निभाम् गौरी सोमचक्रस्थिताम् अष्टमम् महागौरी त्रिनेत्राम्।
वराभीतिकरां त्रिशूल डमरूधरां महागौरी भजेम्॥
पटाम्बर परिधानां मृदुहास्या नानालङ्कार भूषिताम्।
मञ्जीर, हार, केयूर, किङ्किणि, रत्नकुण्डल मण्डिताम्॥
प्रफुल्ल वन्दना पल्लवाधरां कान्त कपोलाम् त्रैलोक्य मोहनम्।
कमनीयां लावण्यां मृणालां चन्दन गन्धलिप्ताम्॥

Vande Vanchhita Kamarthe Chandrardhakritashekharam।
Simharudha Chaturbhuja Mahagauri Yashasvinim॥
Purnandu Nibham Gauri Somachakrasthitam Ashtamam Mahagauri Trinetram।
Varabhitikaram Trishula Damarudharam Mahagauri Bhajem॥
Patambara Paridhanam Mriduhasya Nanalankara Bhushitam।
Manjira, Hara, Keyura, Kinkini, Ratnakundala Manditam॥
Praphulla Vandana Pallavadharam Kanta Kapolam Trailokya Mohanam।
Kamaniyam Lavanyam Mrinalam Chandana Gandhaliptam॥

स्तोत्र

सर्वसङ्कट हन्त्री त्वंहि धन ऐश्वर्य प्रदायनीम्।
ज्ञानदा चतुर्वेदमयी महागौरी प्रणमाम्यहम्॥
सुख शान्तिदात्री धन धान्य प्रदायनीम्।
डमरूवाद्य प्रिया अद्या महागौरी प्रणमाम्यहम्॥
त्रैलोक्यमङ्गल त्वंहि तापत्रय हारिणीम्।
वददम् चैतन्यमयी महागौरी प्रणमाम्यहम्॥

Sarvasankata Hantri Tvamhi Dhana Aishwarya Pradayanim।
Jnanada Chaturvedamayi Mahagauri Pranamamyaham॥
Sukha Shantidatri Dhana Dhanya Pradayanim।
Damaruvadya Priya Adya Mahagauri Pranamamyaham॥
Trailokyamangala Tvamhi Tapatraya Harinim।
Vadadam Chaitanyamayi Mahagauri Pranamamyaham॥

Devi Mahagauri: Mantra, Praise, Stotra, Aarti and Chalisa
महागौरी मंत्र, प्रार्थना, ध्यान, स्तुति, स्तोत्र, कवच आरती और चालीसा

कवच

ॐकारः पातु शीर्षो माँ, हीं बीजम् माँ, हृदयो।
क्लीं बीजम् सदापातु नभो गृहो च पादयो॥
ललाटम् कर्णो हुं बीजम् पातु महागौरी माँ नेत्रम्‌ घ्राणो।
कपोत चिबुको फट् पातु स्वाहा माँ सर्ववदनो॥

Omkarah Patu Shirsho Maa, Him Bijam Maa, Hridayo।
Klim Bijam Sadapatu Nabho Griho Cha Padayo॥
Lalatam Karno Hum Bijam Patu Mahagauri Maa Netram Ghrano।
Kapota Chibuko Phat Patu Swaha Maa Sarvavadano॥

आरती

जय महागौरी जगत की माया। जय उमा भवानी जय महामाया॥
हरिद्वार कनखल के पासा। महागौरी तेरा वहा निवास॥
चन्द्रकली और ममता अम्बे। जय शक्ति जय जय माँ जगदम्बे॥
भीमा देवी विमला माता। कौशिक देवी जग विख्यता॥
हिमाचल के घर गौरी रूप तेरा। महाकाली दुर्गा है स्वरूप तेरा॥
सती (सत) हवन कुंड में था जलाया। उसी धुएं ने रूप काली बनाया॥
बना धर्म सिंह जो सवारी में आया। तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया॥
तभी माँ ने महागौरी नाम पाया। शरण आनेवाले का संकट मिटाया॥
शनिवार को तेरी पूजा जो करता। माँ बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता॥
भक्त बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो। महागौरी माँ तेरी हरदम ही जय हो॥

चालीसा

मन मंदिर मेरे आन बसो,
आरम्भ करूं गुणगान,
गौरी माँ मातेश्वरी,
दो चरणों का ध्यान।

पूजन विधी न जानती,
पर श्रद्धा है आपर,
प्रणाम मेरा स्विकारिये,
हे माँ प्राण आधार।

नमो नमो हे गौरी माता,
आप हो मेरी भाग्य विधाता,
शरनागत न कभी गभराता,
गौरी उमा शंकरी माता।

आपका प्रिय है आदर पाता,
जय हो कार्तिकेय गणेश की माता,
महादेव गणपति संग आओ,
मेरे सकल कलेश मिटाओ।

सार्थक हो जाए जग में जीना,
सत्कर्मो से कभी हटु ना,
सकल मनोरथ पूर्ण कीजो,
सुख सुविधा वरदान में दीज्यो।

हे माँ भाग्य रेखा जगा दो,
मन भावन सुयोग मिला दो,
मन को भाए वो वर चाहु,
ससुराल पक्ष का स्नेहा मै पायु।

परम आराध्या आप हो मेरी,
फ़िर क्यूं वर मे इतनी देरी,
हमरे काज सम्पूर्ण कीजियो,
थोडे में बरकत भर दीजियो।

अपनी दया बनाए रखना,
भक्ति भाव जगाये रखना,
गौरी माता अनसन रहना,
कभी न खोयूं मन का चैना।

देव मुनि सब शीश नवाते,
सुख सुविधा को वर मै पाते,
श्रद्धा भाव जो ले कर आया,
बिन मांगे भी सब कुछ पाया।

हर संकट से उसे उबारा,
आगे बढ़ के दिया सहारा,
जब भी माँ आप स्नेह दिखलावे,
निराश मन मे आस जगावे।

शिव भी आपका काहा ना टाले,
दया द्रष्टि हम पे डाले,
जो जन करता आपका ध्यान,
जग मे पाए मान सम्मान।

सच्चे मन जो सुमिरन करती,
उसके सुहाग की रक्षा करती,
दया द्रष्टि जब माँ डाले,
भव सागर से पार उतारे।

जपे जो ओम नमः शिवाय,
शिव परिवार का स्नेहा वो पाए,
जिसपे आप दया दिखावे,
दुष्ट आत्मा नहीं सतावे।

सता गुन की हो दता आप,
हर इक मन की ग्याता आप,
काटो हमरे सकल कलेश,
निरोग रहे परिवार हमेश।

दुख संताप मिटा देना माँ,
मेघ दया के बरसा देना माँ,
जबही आप मौज में आय,
हठ जय माँ सब विपदाए।

जीसपे दयाल हो माता आप,
उसका बढ़ता पुण्य प्रताप,
फल-फूल मै दुग्ध चढ़ाऊ,
श्रद्धा भाव से आपको ध्यायु।

अवगुन मेरे ढक देना माँ,
ममता आँचल कर देना माँ,
कठिन नहीं कुछ आपको माता,
जग ठुकराया दया को पाता।

बिन पाऊ न गुन माँ तेरे,
नाम धाम स्वरूप बहू तेरे,
जितने आपके पावन धाम,
सब धामो को माँ प्राणम।

आपकी दया का है ना पार,
तभी को पूजे कुल संसार,
निर्मल मन जो शरण मे आता,
मुक्ति की वो युक्ति पाता।

संतोष धन्न से दामन भर दो,
असम्भव को माँ सम्भव कर दो,
आपकी दया के भारे,
सुखी बसे मेरा परिवार।

अपकी महिमा अती निराली,
भक्तो के दुःख हरने वाली,
मनो कामना पुरन करती,
मन की दुविधा पल मे हरती।

चालीसा जो भी पढे-सुनाया,
सुयोग वर् वरदान मे पाए,
आशा पूर्ण कर देना माँ,
सुमंगल साखी वर देना माँ।

गौरी माँ विनती करूँ,
आना आपके द्वार,
ऐसी माँ कृपा किजिये,
हो जाए उद्धहार।

हीं हीं हीं शरण मे,
दो चरणों का ध्यान,
ऐसी माँ कृपा कीजिये,
पाऊँ मान सम्मान।

जय माँ गौरी