spot_img
Newsnowसंस्कृतिIndian Music: शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत की विशिष्ट विशेषताएं

Indian Music: शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत की विशिष्ट विशेषताएं

भारतीय संगीत की विशेषता जटिल लय का उपयोग भी है, जिसमें 4/4, 7/8, और 16/16 जैसे समय चिह्न आम हैं। "राग" (मधुर पैमाने) और "ताल" (लयबद्ध चक्र) की अवधारणा शास्त्रीय और लोक भारतीय संगीत दोनों के लिए मौलिक है। राग मधुर रूपरेखा प्रदान करते हैं, जबकि ताल किसी रचना की लयबद्ध संरचना को निर्धारित करते हैं।

Indian Music एक समृद्ध और विविध परंपरा है जिसका इतिहास हजारों वर्षों तक फैला हुआ है। यह दुनिया की सबसे पुरानी और सबसे जटिल संगीत प्रणालियों में से एक है, जो अपने अद्वितीय पैमाने, लय और मधुर संरचनाओं की विशेषता है। भारतीय संगीत को मोटे तौर पर दो मुख्य श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

यह भी पढ़ें: Classical Dance: भारत के विभिन्न राज्यों की पहचान

Indian Music के प्रकार

शास्त्रीय संगीत:

Distinctive features of Indian Music
Indian Music: शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत की विशिष्ट विशेषताएं

हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत: शास्त्रीय संगीत की इस शैली की उत्पत्ति उत्तर भारत में हुई। यह फ़ारसी और इस्लामी संगीत परंपराओं से काफी प्रभावित है और अपनी कामचलाऊ प्रकृति के लिए जाना जाता है। हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के प्रमुख वाद्ययंत्रों में सितार, तबला, सरोद और बांसुरी शामिल हैं। प्रमुख हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीतकारों में रविशंकर और ज़ाकिर हुसैन शामिल हैं।

Distinctive features of Indian Music
Indian Music: शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत की विशिष्ट विशेषताएं

कर्नाटक शास्त्रीय संगीत: दक्षिण भारत में उत्पन्न, कर्नाटक शास्त्रीय संगीत Indian Music की तुलना में प्रकृति में अधिक संरचित और भक्तिपूर्ण है। इसमें गायन पर विशेष जोर दिया जाता है और वायलिन, मृदंगम, घटम और वीणा जैसे वाद्ययंत्रों का उपयोग किया जाता है। प्रमुख कर्नाटक शास्त्रीय संगीतकारों में सुब्बुलक्ष्मी और एल. सुब्रमण्यम एम.एस. शामिल हैं।

लोक संगीत:

Distinctive features of Indian Music
Indian Music: शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत की विशिष्ट विशेषताएं

बॉलीवुड संगीत: भारत अपने फिल्म उद्योग, बॉलीवुड के लिए जाना जाता है, जो बड़ी मात्रा में संगीत का उत्पादन करता है। बॉलीवुड संगीत विभिन्न संगीत शैलियों का मिश्रण है और अक्सर आकर्षक धुनों और नृत्य योग्य लय की विशेषता होती है।

भजन और कीर्तन: ये आमतौर पर हिंदू धार्मिक प्रथाओं से जुड़े भक्ति गीत हैं। भजन आमतौर पर भक्ति के सरल गीत होते हैं, जबकि कीर्तन में समूह के साथ कॉल-एंड-रिस्पॉन्स गायन शामिल होता है।

Distinctive features of Indian Music
Indian Music: शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत की विशिष्ट विशेषताएं

भांगड़ा: पंजाब में उत्पन्न, भांगड़ा एक जीवंत और ऊर्जावान लोक नृत्य और संगीत शैली है। इसमें अक्सर ढोल बजाया जाता है और यह समारोहों और उत्सवों में लोकप्रिय है।

रवीन्द्र संगीत: यह प्रसिद्ध बंगाली कवि रवीन्द्रनाथ टैगोर की रचनाओं से जुड़ी संगीत की एक शैली है। इसमें भक्ति और दार्शनिक दोनों प्रकार के गीत शामिल हैं।

Indian Music की विशेषता जटिल लय का उपयोग भी है, जिसमें 4/4, 7/8, और 16/16 जैसे समय चिह्न आम हैं। “राग” (मधुर पैमाने) और “ताल” (लयबद्ध चक्र) की अवधारणा शास्त्रीय और लोक भारतीय संगीत दोनों के लिए मौलिक है। राग मधुर रूपरेखा प्रदान करते हैं, जबकि ताल किसी रचना की लयबद्ध संरचना को निर्धारित करते हैं।

Distinctive features of Indian Music
Indian Music: शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत की विशिष्ट विशेषताएं

इन पारंपरिक रूपों के अलावा, समकालीन भारतीय संगीत में पश्चिमी संगीत के साथ भारतीय तत्वों का मिश्रण देखा गया है, जिसके परिणामस्वरूप भारतीय पॉप, फ़्यूज़न और इलेक्ट्रॉनिक संगीत जैसी शैलियाँ सामने आईं।

कुल मिलाकर, Indian Music एक जीवंत और विकसित परंपरा है जो अपनी जटिल धुनों, जटिल लय और गहरे सांस्कृतिक महत्व से दुनिया भर के दर्शकों को मंत्रमुग्ध करती रहती है।