Newsnowमंत्र-जापDhanvantari Mantra का अर्थ और लाभ

Dhanvantari Mantra का अर्थ और लाभ

भगवान धन्वंतरि को आयुर्वेद चिकित्सा का जनक माना जाता है। वह परम उपचारक और सबसे दयालु भगवान हैं जो मानवता के चेहरे से सभी भय और बीमारियों को दूर करते हैं।

Dhanvantari Mantra: भगवान धन्वंतरि भगवान विष्णु की सबसे लोकप्रिय अभिव्यक्तियों में से एक है। भगवान धन्वंतरि दूधिया सागर से निकले थे जब देवताओं और राक्षसों ने अमर अमृत की खोज में इसका मंथन किया था। भगवान धन्वंतरि को आयुर्वेद चिकित्सा का जनक माना जाता है। वह परम उपचारक और सबसे दयालु भगवान हैं जो मानवता के चेहरे से सभी भय और बीमारियों को दूर करते हैं। भगवान धन्वंतरि के कुछ सबसे शक्तिशाली मंत्रों का जाप करने से मनुष्य के कष्टों को कम करने और सुख और समृद्धि को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।

साधना के लिये एक साधारण Dhanvantari Mantra:

ॐ धन्वंतराये नमः॥

भगवान धन्वंतरि मंत्र क्या है?

ॐ नमो भगवते धन्वन्तरये अमृत कलश हस्ताय सर्व आमय।
विनाशनाय त्रिलोक नाथाय श्री महाविष्णुवे नम: ||

भगवान धन्वंतरि मंत्र का अर्थ क्या है?

मैं भगवान धन्वंतरि को नमन करता हूं, भगवान चार हाथों से शंख लेकर, जोंक और अमर अमृत के बर्तन पर चर्चा करते हैं। उसके हृदय में प्रकाश की एक मनभावन और तेजोमय ज्वाला चमकती है। उनके सिर के चारों ओर प्रकाश चमकते हुए और सुंदर कमल की आँखों में भी दिखाई देता है। उनका दिव्य खेल एक धधकते जंगल की आग की तरह सभी रोगों को नष्ट कर देता है।

भगवान धन्वन्तरि आयुर्वेद की चिकित्सा खोज करनें वाले वैद्य अथवा स्वास्थ्य के देवता के रूप में माने जाते है। धन्वन्तरि ने ही सबसे पहले ‘शल्य चिकित्सा’ का खोज किया। इनकी पूजा करने वाले को स्वास्थ्य से संबंधित परेशानियों से राहत मिलती है।

Meaning and benefits of Dhanvantari Mantra
Dhanvantari Mantra का अर्थ और लाभ

धन्वंतरि गायत्री मंत्र क्या है ?

ॐ वासुदेवाय विघ्माहे वैधयाराजाया धीमहि तन्नो धन्वन्तरी प्रचोदयात् ||
ॐ तत्पुरुषाय विद्‍महे अमृता कलसा हस्थाया धीमहि तन्नो धन्वन्तरी प्रचोदयात् ||

धन्वंतरि गायत्री मंत्र का अर्थ क्या है?

मैं भगवान धन्वंतरि का ध्यान करता हूं जो सर्वोच्च हैं और हाथों में अमर अमृत का एक बर्तन रखते हैं। प्रभु अज्ञान के अंधकार को दूर करें और मेरे हृदय में ज्ञान का दीपक जलाएं।

यह भी पढ़ें: Vishnu Mantra का अर्थ और 5 विशेष लाभ

Meaning and benefits of Dhanvantari Mantra
Dhanvantari Mantra का अर्थ और लाभ

भगवान धन्वंतरि लोकप्रिय मंत्र क्या है?

“नमनि धन्वंतरी आदि देवं, सुरसुर वंदीथम पद पद्मम, लोके जरा रुग्भयमृत्यु नशकम, दाताराम ईशम विविदौषधिनाम”

भगवान धन्वंतरि लोकप्रिय मंत्र का अर्थ क्या है?

हे यहोवा, मैं तेरे सम्मुख नतमस्तक हूं। आप देवताओं और राक्षसों दोनों द्वारा पूजे जाते हैं। आपकी दिव्य शक्तियां इस दुनिया के लोगों को आशीर्वाद देती हैं और उन्हें कष्टों, बीमारियों, बीमारियों, बुढ़ापे और मृत्यु के भय से बाहर लाती हैं। हे प्रभु, मुझे अपनी दवाएं और आशीर्वाद भरपूर मात्रा में दें ताकि मानवता के सामने आने वाली बीमारी को दूर किया जा सके।

Meaning and benefits of Dhanvantari Mantra
Dhanvantari Mantra का अर्थ और लाभ

यह भी पढ़ें: Shanti Mantra से अपने घर में लाएं शांति

Dhanvantari Mantra का जाप कैसे करें?

• इस मंत्र का जाप करने का सबसे अच्छा समय सूर्योदय से पहले और उसके दौरान है। 

• मंत्र जाप की संख्या को बनाए रखने के लिए स्नान करें और कमल की माला या स्फटिक की माला का प्रयोग करें। 

• बीमार लोगों को ठीक करने के लिए मंत्र का जाप भी किया जा सकता है। 

• मंत्र को 108 के गुणकों में जपें और दिन बीतने के साथ गिनती बढ़ाएं। 

• जरूरतमंद और गरीबों को दवाएं और भोजन दान करें। दयालुता का यह कार्य मंत्र जाप की शक्ति को बढ़ाएगा।

Dhanvantari Mantra जाप के क्या लाभ?

• धन्वंतरि मंत्र का जाप करने से मनुष्य में जीवन शक्ति और ऊर्जा के स्तर में सुधार होता है। यह कल्याण की प्राकृतिक स्थिति को प्राप्त करने में भी मदद करता है। 

• यह मंत्र मानसिक भय और सभी प्रकार के कष्टों को दूर कर एक स्पष्ट दृष्टि को बढ़ावा देता है। 

• जब भी मंत्र का जाप किया जाता है, तो इसकी दिव्य ऊर्जा आपको छूती है और आपके शरीर, मन पर काम करती है। और आत्मा एक उपचार स्पर्श के साथ। जितना अधिक इसका जाप किया जाता है, उतना ही इसके सकारात्मक और उपचारात्मक प्रभाव होते हैं। 

धन्वंतरि मंत्रों के जाप से असाध्य रोग ठीक हो जाते हैं। जब रोग वर्षों से लटक रहे हों, तो यह मंत्र मंत्र जाप शासन शुरू करने के बहुत ही कम समय में प्राकृतिक उपचार प्राप्त करने में मदद कर सकता है। 

• इस मंत्र से सभी प्रकार के शारीरिक और मानसिक रोग दूर हो जाते हैं। इस मंत्र का परम लाभ मोक्ष की प्राप्ति है।