Newsnowमंत्र-जापVishnu Mantra का अर्थ और 5 विशेष लाभ

Vishnu Mantra का अर्थ और 5 विशेष लाभ

भगवान विष्णु सबसे दयालु भगवान हैं जो अपने भक्तों को शांति, समृद्धि और शुभता का आशीर्वाद देते हैं।

Vishnu Mantra: भगवान विष्णु हिंदू त्रिमूर्ति में दूसरे और बीच में हैं। सृष्टि के निर्माण, संरक्षण और विनाश के तीन कार्यों में से, भगवान विष्णु निर्मित ब्रह्मांड की रक्षा करने का ध्यान रखते हैं। दुनिया के रक्षक होने के नाते, भगवान विष्णु सबसे दयालु भगवान हैं जो अपने भक्तों को शांति, समृद्धि और शुभता का आशीर्वाद देते हैं। जीवन में अपार लाभ प्राप्त करने के लिए यहां कुछ चुनिंदा विष्णु मंत्र दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें: Shukra Mantra का अर्थ और 8 लाभ

Maha Vishnu Mantra

Meaning and Benefits of Vishnu Mantra
Vishnu Mantra

“शांताकारम भुजग शयनं पद्मनाभम सुरेशम विश्वधर्म गगन सदृशं मेघ वर्णं शुभंगम लक्ष्मी कंतम कमला नयनम योगी हृदय ध्यान गम्यं वंदे विष्णुं भव भया हरम सर्व लोकिका नाथम”

अर्थ:

मैं भगवान विष्णु की स्तुति करता हूं जो सभी संसारों के स्वामी हैं और इस सांसारिक जीवन की बीमारियों का नाश करने वाले हैं। भगवान विष्णु शांत स्वरूप के हैं और सर्प शय्या पर विराजमान हैं।

वह सभी देवताओं के स्वामी हैं और उसकी नाभि से कमल का डंठल निकलता है। वह इस ब्रह्मांड की नींव है और आकाश की तरह एक विस्तृत रूप प्रस्तुत करते हैं।

Meaning and Benefits of Vishnu Mantra
Vishnu Mantra का विशेष लाभ

वह बादलों की तरह एक काले रंग के हैं और शुभ रूप में प्रकट होते हैं। वह देवी लक्ष्मी का आकर्षण है। ऋषि-मुनियों द्वारा कमल के नेत्रों वाले भगवान का निरंतर ध्यान किया जाता है।

सरल विष्णु मंत्र

“ॐ नमो भगवते वासुदेवाय”

अर्थ:

मैं सभी प्राणियों के हृदय में निवास करने वाले भगवान को नमन करता हूं।

श्री विष्णु गायत्री मंत्र

Meaning and Benefits of Vishnu Mantra
Vishnu Mantra

ॐ नारायणाय विद्महे वासुदेवाय धीमहि तन्नोः विष्णुः प्रचोदयात् ||

अर्थ:

ॐ भगवान विष्णु पर मेरा ध्यान केंद्रित हो, भगवान विष्णु मुझे उच्च विद्या दें, और मेरे मस्तिष्क को प्रकाशित करें।

यह भी पढ़ें: Navgraha Mantra जाप, अर्थ और लाभ

नाम विष्णु मंत्र

ॐ श्रीं कृष्णाय श्रीं श्रीं श्रीं गोविंदाय गोपाल गोलोक चंद्राय सत्य नित्यय परममणे परय व्यखानासय वीरजमूरथायेमेघठमने श्रीं नरसिम्हवपुशे नमः

अर्थ:

मंत्र भगवान विष्णु के कई दिलचस्प नामों को सूचीबद्ध करता है और उन्हें परम सत्य, सर्वोच्च व्यक्ति और सर्वव्यापी के रूप में संबोधित करता है।

शक्तिशाली विष्णु मंत्र

त्वमेव माता च पिता त्वमेव ।

त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव ।

त्वमेव विद्या द्रविणम् त्वमेव ।

त्वमेव सर्वम् मम देव देव ॥

अर्थ:

हे प्रभु, आप मेरे पिता, माता, रिश्तेदार और मित्र हैं। आप मेरी शिक्षा, संपत्ति और मेरे आस-पास की हर चीज हैं। मैं आपको नमन करता हूँ प्रिय प्रभु।

यह भी पढ़ें: 12 Beej Mantra: उनका अर्थ और लाभ

विष्णु मंत्र का जाप कैसे करें

भगवान विष्णु के मंत्रों का जाप करने का सबसे अच्छा समय सुबह ब्रह्म मुहूर्त (सुबह 4 से 6 बजे) है। 

स्नान कर चटाई या लकड़ी के तख्त पर बैठ जाएं। अपने सामने भगवान विष्णु की तस्वीर रखें और भगवान के दिव्य रूप पर ध्यान केंद्रित करते हुए मंत्र का जाप करना शुरू करें।

विष्णु मंत्र का जाप करने के लिए आदर्श संख्या 108 के गुणक हैं। 

जप करते समय गिनती रखने के लिए तुलसी की माला का प्रयोग करें।

जप व्यवस्था पर विष्णु मंत्र का जाप करते हुए आप दिन प्रतिदिन जप की संख्या बढ़ाते जा सकते हैं।  

Vishnu Mantra का जाप भक्ति और ध्यान से करने से परम लाभ मिल सकता है।

विष्णु मंत्र जाप लाभ

1. घर में स्वास्थ्य और धन को बढ़ावा देता है। एक अत्यधिक शक्तिशाली क्लीन्ज़र के रूप में कार्य करता है जो दिमाग को उसकी सभी कमजोरियों, भ्रमों और डगमगाने वाले स्वभाव से साफ़ करता है।

2. आत्मविश्वास को बढ़ाता है और जीवन के हर मोर्चे पर सफलता का मार्ग दिखाता है।  

3. घर में बुरे मंत्रों और नकारात्मक ऊर्जाओं के प्रभाव को दूर करता है और अत्यधिक शक्तिशाली सकारात्मक स्पंदनों को बढ़ाता है।

4. Vishnu Mantra का जप करने वाले को प्राकृतिक और अप्राकृतिक दोनों तरह के सभी नुकसानों से बचाने के लिए एक सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करता है। 

5. विष्णु मंत्र के जाप का अंतिम लाभ मुक्ति की प्राप्ति है।