Newsnowमंत्र-जापNavgraha Mantra जाप, अर्थ और लाभ

Navgraha Mantra जाप, अर्थ और लाभ

Navgraha Mantra शक्तिशाली उच्चारण हैं जो मंत्रों के लाभ के लिए नौ ग्रहों के आशीर्वाद को आमंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

Navgraha Mantra: नवग्रह नौ ग्रह हैं जो प्रत्येक व्यक्ति की कुंडली पर शासन करते हैं। नवग्रह ब्रह्मांड की अत्यधिक शक्तिशाली और प्रभावशाली शक्तियाँ हैं जो पृथ्वी पर लोगों के जीवन का समन्वय करती हैं। ग्रहों की स्थिति और कुंडली में अन्य ग्रहों के साथ उनकी बातचीत के आधार पर, व्यक्ति अपने जीवन में लाभकारी या हानिकारक परिणामों का सामना करते हैं। 

Navgraha Mantra Jaap, Meaning and Benefits
Navgraha Mantra जाप, अर्थ और लाभ

यह भी पढ़ें: 12 Beej Mantra: उनका अर्थ और लाभ

Navgraha Mantra शक्तिशाली उच्चारण हैं जो मंत्रों के लाभ के लिए नौ ग्रहों के आशीर्वाद को आमंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। यहां लोकप्रिय नवग्रह मंत्र, उनके अर्थ और लाभ बताए गए हैं।

सामान्य Navgraha Mantra

Navgraha Mantra Jaap, Meaning and Benefits
Navgraha Mantra जाप, अर्थ और लाभ

ॐ आदित्याय च सोमाय मङ्गलाय बुधाय च ।

गुरु शुक्र शनिभ्यश्च राहवे केतवे नमः ॥

Navgraha Mantra अर्थ:

यह मंत्र ज्योतिष के सभी नौ ग्रहों अर्थात् सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु को संबोधित करता है और कार्यों के सफल समापन के लिए उनका आशीर्वाद मांगता है।

आदित्य (सूर्य), चंद्र (चंद्रमा), मंगला (मंगल) और बुद्ध (बुध) को मेरा नमस्कार। मैं गुरु (बृहस्पति), शुक्र (शुक्र), शनि (शनि) के साथ-साथ राहु और केतु को भी नमस्कार करता हूं।

सूर्य मंत्र

ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः।।

सर्वोत्तम परिणामों के लिए 40 दिनों के भीतर सूर्य बीज मंत्र का 7000 बार जप करें।

चंद्र मंत्र

ॐ ऐं क्लीं सोमाय नमः ||

40 दिनों की अवधि के भीतर, चंद्र बीज मंत्र का 11,000 बार जाप करना चाहिए।

मंगल मंत्र

ॐ हूं श्रीं भौमाय नमः ||

आपको 40 दिनों के भीतर जितने मंगल बीज मंत्र पूरे करने हैं, वह संख्या 10,000 है।

बुध मंत्र

ॐ ऐं श्रीं श्रीं बुधाय नमः ।।

बुध बीज मंत्र से सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए 40 दिनों की अवधि के भीतर 9000 बार इसका जाप करें।

बृहस्पति (गुरु) मंत्र

ॐ ह्रीं क्लीं हूं बृहस्पतये नमः ।।

सर्वोत्तम परिणाम देखने के लिए 40 दिनों की अवधि के भीतर गुरु बीज मंत्र का 19,000 बार जाप करना चाहिए।

शुक्र मंत्र

ॐ हरिंग श्रृंग शुक्राय नमः ||

शुक्र बीज मंत्र का 40 दिनों के भीतर जाप करने की आदर्श संख्या 16,000 बार है।

शनि मंत्र

ॐ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चराय नमः ||

वांछित परिणामों के लिए शनि बीज मंत्र का 40 दिनों के भीतर 23,000 बार जाप करना चाहिए।

राहु मंत्र

ॐ ऐं ह्रीं राहवे नमः ||

40 दिनों की समय सीमा के भीतर राहु बीज मंत्र का 18,000 बार जाप करें।

केतु मंत्र

केतु बीज मंत्र जाप की मंत्र साधना के दौरान 40 दिनों के भीतर इसका 17,000 बार जाप करें।

यह भी पढ़ें: Lord Krishna मंत्र, अर्थ और लाभ

Navgraha Mantra Jaap, Meaning and Benefits
Navgraha Mantra जाप, अर्थ और लाभ

यह भी पढ़ें: इन शक्तिशाली 10 Durga Mantras का जाप करें, अपने जीवन को बदलें 

Navgraha Mantra के जाप के लाभ

व्यक्ति के समग्र कल्याण को बढ़ावा देने के लिए नवग्रह बीज मंत्रों का जाप अत्यधिक लाभकारी होता है। इन सभी मंत्रों का नियमित रूप से जाप करने से आप अपनी कुंडली में नौ ग्रहों के प्रभाव को कम कर सकते हैं।

अपनी कुंडली के अनुसार निर्धारित मंत्र का जाप करें और आप 40 दिनों की अवधि के भीतर एक महत्वपूर्ण अंतर देखेंगे।

व्यक्ति की कुंडली के अनुसार चुना गया नवग्रह मंत्र उक्त ग्रह के सकारात्मक प्रभाव को मजबूत करने और नकारात्मक प्रभावों को कम करने में मदद करता है।

नवग्रह दोषों को दूर करने और जीवन में शांति और खुशी प्राप्त करने में मदद करता है। दुर्भाग्य को दूर रखता है। रोगों और व्याधियों से बचाता है।

व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन की गुणवत्ता में महत्वपूर्ण रूप से सुधार करता है।

सर्वोत्तम परिणामों के लिए उस ग्रह विशेष के राशि रत्न से बनी माला का प्रयोग करें। उदाहरण के लिए चंद्र मंत्र के लिए मोती की माला और मंगल मंत्र के लिए मूंगे की माला का प्रयोग करें।