Newsnowसंस्कृतिKarwa Chauth 2022: तिथि, समय और महत्व

Karwa Chauth 2022: तिथि, समय और महत्व

करवा चौथ चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है जो कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी होती है। इस साल करवा चतुथ गुरुवार, 13 अक्टूबर, 2022 को मनाया जाएगा।

Karwa Chauth 2022: करवा चौथ देश भर में विवाहित हिंदू महिलाओं द्वारा मनाया जाने वाला एक बहुत ही भव्य भारतीय त्योहार है। इस त्योहार पर विवाहित महिलाएं सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक कठोर व्रत रखती हैं। यह व्रत पति की लंबी उम्र और सुख-समृद्धि के लिए किया जाता है। 

करवा चौथ के इस शुभ अवसर पर अविवाहित युवतियां भी अपने मंगेतर या मनचाहे पति के लिए व्रत रखती हैं। राज्य के अनुसार करवा चौथ के नाम भिन्न हो सकते हैं, लेकिन त्योहार के दौरान पालन किए जाने वाले महत्व और परंपराएं वही रहती हैं।

करवा चौथ चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है जो कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी होती है। इस साल करवा चतुथ गुरुवार, 13 अक्टूबर, 2022 को मनाया जाएगा।

Karwa Chauth 2022 Significance Date and Time
Karwa Chauth 2022: तिथि, समय और महत्व

Karwa Chauth 2022 दिनांक और समय:

चतुर्थी तिथि की शुरुआतगुरुवार, 13 अक्टूबर, 2022 – 01:59 पूर्वाह्न
चतुर्थी तिथि समाप्तशुक्रवार, 14 अक्टूबर, 2022 – 03:08 AM
करवा चौथ चंद्र उदय का समयगुरुवार, 13 अक्टूबर, 2022 – 08:09 अपराह्न
करवा चौथ पूजा मुहूर्तगुरुवार, 13 अक्टूबर, 2022 – शाम 05:54 बजे से शाम 07:08 बजे तक

Karwa Chauth क्यों एक अनोखा त्योहार है?

करवा चौथ का त्यौहार पूरे देश में बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस पर्व पर भव्य समारोह का आयोजन किया जाता है। सभी हिंदू और भारतीय महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए इस सख्त निर्जला व्रत का पालन करती हैं और वे पूरे दिन कुछ भी नहीं खाती हैं।

करवा चौथ का व्रत बहुत ही अनोखा होता है क्योंकि दुनिया में कहीं भी कोई महिला अपने पति की लंबी उम्र की प्रार्थना करने के लिए दिन भर बिना कुछ खाए-पिए नहीं रहती है।

Karwa Chauth 2022 Significance Date and Time
Karwa Chauth 2022: तिथि, समय और महत्व

Karwa Chauth का महत्व क्या है?

विवाहित महिलाएं चौथ माता की पूजा करती हैं और अपने पति की भलाई के लिए देवी से प्रार्थना करती हैं और चौथ माता से अपने पति के लिए आशीर्वाद मांगती हैं। ऐसा माना जाता है कि करवा चौथ अपने परिवार में दुल्हन और महिलाओं के बीच के बंधन को संजोने के लिए मनाया जाता था।

करवा का तात्पर्य मिट्टी के बर्तन से है जिसके माध्यम से चंद्रमा को जल चढ़ाया जाता है। चंद्रमा को जल चढ़ाने को अर्घ कहते हैं। सभी विवाहित महिलाएं चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं।

Karwa Chauth 2022 Significance Date and Time
Karwa Chauth 2022: तिथि, समय और महत्व

Karwa Chauth में मेहंदी का क्या महत्व है?

मेंहदी लगाने की परंपरा करवा चौथ का मुख्य और महत्वपूर्ण हिस्सा है। हिंदू संस्कृति में, मेहंदी विवाहित महिलाओं के लिए सौभाग्य का प्रतीक है। करवा चौथ के इस खास दिन महिलाएं हाथों और पैरों में मेहंदी लगाती हैं।

Karwa Chauth में सरगी का क्या महत्व है?

करवा चौथ के दिन सरगी को मुख्य हिस्सा माना जाता है। सरगी एक विशेष भोजन है जिसे सूर्योदय से पहले खाया जाता है। इसमें आमतौर पर सेवइयां या परांठे, फल और सभी शाकाहारी खाने की चीज़ें शामिल की जा सकती हैं।

सरगी परंपरा का पालन सभी लोग नहीं करते हैं क्योंकि इसका पालन मुख्य रूप से पंजाबी समुदाय के लोग करते हैं। महिलाएं इस दिन व्रत रखने के बावजूद स्वादिष्ट भोजन बनाती हैं और सबसे पहले चौथ माता को भोजन कराया जाता है।