Newsnowप्रमुख ख़बरेंAssembly Elections 2021: मतदान का वक्त बढ़ाया गया, पहले चरण का मतदान...

Assembly Elections 2021: मतदान का वक्त बढ़ाया गया, पहले चरण का मतदान 27 मार्च को होगा

Assembly Elections 2021: देश के कई राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, जिसके लिए Election Commission ने तारीखों की घोषणा की है.

Assembly Elections 2021: अगले कुछ महीनों में देश के कई राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, जिसके लिए चुनाव आयोग (Election Commission) आज तारीखों की घोषणा कर रहा है. चुनाव आयोग ने तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल, असम और पुदुच्चेरी के लिए चुनावी तारीखों की ऐलान करने वाला है. इन राज्यों में अप्रैल-मई में चुनाव हो सकते हैं. कोरोना के बीच हुए बिहार चुनावों के बाद एक साथ इतने राज्यों में चुनाव हो रहे हैं. बता दें कि पश्चिम बंगाल की 294, तमिलनाडु की 234, केरल की 140, असम की 126 और पुदुच्चेरी की 30 विधानसभा सीटों पर चुनाव कराए जाने हैं. 

2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी (BJP) ने बंगाल में शानदार प्रदर्शन करते हुए 42 में से 18 लोकसभा सीटें जीतकर सबको चौंका दिया. 2016 से 2021 के बीच बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election) के दौरान सफलता हासिलकर बीजेपी ने अपनी सीटों का आंकड़ा 15 तक पहुंचा लिया. कांग्रेस और लेफ्ट एक बार फिर मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं. 

Election Commission

इन पांच राज्यों में चुनाव आचार संहिता आज से लागू

पश्चिम बंगाल 

पुदुच्‍चेरी

तमिलनाडु

केरल

असम

Corona के मद्देनजर विशेष इंतजाम, बंगाल में एक लाख से ज्‍यादा मतदान केंद्र 

बंगाल में 8 चरणों में चुनाव होंगे। पश्चिम बंगाल में पहले चरण का मतदान 27 मार्च को होगा.

दूसरा चरण 30 सीट

मतदान 1 अप्रैल

तीसरा चरण 31 सीट

मतदान 6 अप्रैल

चौथा चरण 44 सीट

मतदान 10 अप्रैल

पांचवां चरण 45 सीट

मतदान 17 अप्रैल

छठा चरण 43 सीट

मतदान 22 अप्रैल

सातवां चरण 36 सीट

मतदान 26 अप्रैल

आठवां चरण 35 सीट

मतदान 29 अप्रैल

मतगणना 2 मई

पुदुच्‍चेरी में भी एक चरण में वोटिंग 6 अप्रैल को होंगे.

तमिलनाडु में भी छह अप्रैल को वोट पड़ेंगे.

केरल सभी 14 जिलों में चुनाव में एक ही चरण में चुनाव, नोटिफिकेशन 12 मार्च और चुनाव की तारीख 6 अप्रैल होगी.

असम में तीन चरण में होंगे चुनाव, पहले चरण का चुनाव 27 मार्च, दूसरे चरण का चुनाव एक अप्रैल और तीसरे चरण को चुनाव 6 अप्रैल को होंगे.

पांचों राज्यों के नतीजे 2 मई को आएंगे : चुनाव आयुक्त

चुनाव आयुक्त ने क्या कहा: 

सभी मतदान केंद्र ग्राउंड फ्लोर पर होंगे 

चुनाव आयोग ने सीबीएसई के साथ भी बैठक की है. त्‍योहार वाले दिन और परीक्षा वाले दिन वोटिंग नहीं होगी 

सीसीटीवी की निगरानी में होगा मतदान, सभी राज्‍यों के लिए पुलिस पर्यवेक्षक नियुक्‍त होगा 

पांच राज्‍यों में 18 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे, केरल और पदुच्‍चेरी में मतदान केंद्र बढ़ाए गए हैं 

सभी संवेदनशील बूथ पर वीडियोग्राफी होगी 

पोलिंग अधिकारियों को कोरोना की वैक्सीन दी जाएगी, चुनाव वाले पांच राज्‍यों में कोरेाना के नियम सख्‍ती से लागू होंगे 

प्रचार के लिए भी पांच से ज्‍यादा लोग घर पर नहीं जा सकते, जमानत की रा‍शि ऑनलाइन जमा की जा सकती है 

बंगाल समेत सभी राज्‍यों में सीआरपीएफ की तैनाती होगी, संवेदनशील बूथों पर भी सीआरपीएफ तैनात रहेगी 

वोट डालने का समय एक घंटा बढ़ाया गया है, नामांकन की प्रकिया ऑनलाइन भी होगी  

घर-घर जाकर प्रचार के लिए पांच से अधिक व्यक्तियों पर पाबंदी 

टीका कार्यक्रम से मतदान प्रक्रिया को बढ़ावा मिल सकता है, पोल अधिकारी फ्रंट लाइन कार्यकर्ता हैं और उनका टीकाकरण किया जाएगा 

Corona के दिशा निर्देशों का पालन करना होगा 

बंगाल में 101916 पोलिंग स्टेशन, केरल में 40771 पोलिंग स्टेशन, पुदुच्चेरी में 1559 पोलिंग स्टेशन होंगे 

पांच राज्यों में 824 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव होना है, जिसमें 18.68 करोड़ वोटर्स हैं. इन पांच राज्यों में 2.7 लाख पोलिंग स्टेशन तैयार किए जाने हैं  

हमारी टीम ने चार राज्यों का दौर किया है और मतदान केंद्रों की संख्या बढाई गई है 

बिहार में पिछली बार से ज़्यादा मतदान हुआ, गृह मंत्रालय से सुरक्षाबलों के बारे में और रेलवे से ट्रांसपोर्ट के विषय में चर्चा की. चुनाव आयोग कोरोना के चलते भारी चुनौतियों के बीच काम कर रहा है  

पश्चिम बंगाल में 2016 का विधानसभा चुनाव 4 अप्रैल से 5 मई 2016 के बीच 6 चरणों में चुनाव संपन्न हुआ था. तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने 294 विधानसभा सीटों में से 211 यानी दो तिहाई से ज्यादा सीटें जीतकर दूसरी बार सरकार बनाई थी. तब कांग्रेस (Cngress) को 44, वाम दलों (Left Parties) को 33 और गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के साथ चुनाव लड़ने वाली BJP महज 3 सीटें ही जीत पाई थी.

वहीं असम में बीजेपी लगातार चुनावी कैंपेन कर रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सहित बीजेपी के कई नेता इन चुनावी राज्यों में लगातार चुनावी जनसभा, रैलियां और रोड शो कर रहे हैं.

बंगाल में बहुमत का जादुई आंकड़ा 148 है. 6 चरणों के 2011 के चुनाव में ममता बनर्जी की अगुवाई वाली तृणमूल कांग्रेस ने कांग्रेस के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था. ममता की अगुवाई वाले इस गठबंधन ने वाम दलों के 34 साल पुराने शासन को उखाड़ फेंका था. टीएमसी को 2011 में 184 और कांग्रेस को 42 सीटें मिली थीं.