Newsnowप्रमुख ख़बरेंLata Mangeshkar पर शोक, कल महाराष्ट्र में छुट्टी

Lata Mangeshkar पर शोक, कल महाराष्ट्र में छुट्टी

कोकिला ऑफ इंडिया कहे जाने वाली मशहूर गायिका लता मंगेशकर का रविवार को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन हो गया।

मुंबई: मशहूर गायिका Lata Mangeshkar के निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने सोमवार को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के कार्यालय ने रविवार को ट्वीट किया, “भारत रत्न लता मंगेशकर के निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए राज्य सरकार ने सोमवार, 7 फरवरी, 2022 को राज्य में सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है।”

Lata Mangeshkar जी के निधन पर दो दिन का राष्ट्रीय शोक

लता मंगेशकर जी के निधन के बाद केंद्र पहले ही दो दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा कर चुका है। इस अवधि के दौरान, भारत रत्न-पुरस्कार विजेता के सम्मान में तिरंगा आधा झुका रहेगा, जिन्होंने दशकों तक अपनी भावपूर्ण आवाज से भारतीय दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया है।

इसके अलावा, कर्नाटक सरकार ने भी समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार दो दिन के शोक की घोषणा की है। इसने एक सरकारी आदेश का हवाला देते हुए कहा कि 6 और 7 फरवरी को राज्यव्यापी शोक के दौरान राज्य में कोई आधिकारिक और सार्वजनिक मनोरंजन कार्यक्रम नहीं होगा।

Lata Mangeshkar के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश का नेतृत्व किया। उन्होंने यह भी घोषणा की कि वह आज मुंबई में महान गायक को श्रद्धांजलि देंगे।

“मैं शब्दों से परे हूं। दयालु और देखभाल करने वाली लता दीदी ने हमें छोड़ दिया है। वह हमारे देश में एक शून्य छोड़ गई हैं  जिसे भरा नहीं जा सकता। आने वाली पीढ़ियां उन्हें भारतीय संस्कृति के एक दिग्गज के रूप में याद रखेंगी, जिनकी सुरीली आवाज में लोगों को मंत्रमुग्ध करने की एक अद्वितीय क्षमता थी।” पीएम मोदी ने ट्वीट किया।

भारत की कोकिला कहे जाने वाले 92 वर्षीय दिग्गज गायिका Lata Mangeshkar का रविवार सुबह मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन हो गया। उन्हें पिछले महीने COVID-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था और निमोनिया का भी इलाज चल रहा था। उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा।

मध्य प्रदेश के इंदौर में 28 सितंबर, 1929 को जन्मीं लता मंगेशकर को देश के कुछ शीर्ष नागरिक पुरस्कार – भारत रत्न, पद्म विभूषण, पद्म भूषण और दादासाहेब फाल्के पुरस्कार मिले हैं।