Newsnowक्राइमJharkhand: चाची ने रची भतीजे के हत्या की साजिश, भतीजे के अलावा...

Jharkhand: चाची ने रची भतीजे के हत्या की साजिश, भतीजे के अलावा नौकर से भी था संबंध।

पुलिस (Jharkhand Police) का कहना है कि मृतक संकेत मिश्रा का अपनी चाची के साथ ही अवैध संबंध था। 33 वर्षीय चाची ने ही घरेलू नौकर के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया। चाची का नौकर बिरसा से भी अनैतिक संबंध था।

Jharkhand: पुलिस (Jharkhand Police) की जांच में पता चला कि मृतक के मोबाइल पर उसकी चाची ने ही कई बार फोन किया था। दोनों के बीच पहले भी कई घंटे तक बात हुआ करती थी। यह बात सामने आने के बाद पुलिस ने मृतक की चाची को थाने में बुलाया, लेकिन चाची थाने में आने की जगह नौकर बिरसा के साथ पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ भाग गई।

जानकारी के अनुसार, मृतक संकेत मिश्रा ने अपनी चाची से तीन हजार रुपये की मांग की थी। जिसके बाद आरोपी चाची ने प्रेमघाघ पिकनिक स्थल पर उसे बुलाया। इस दौरान बिरसा कुछ सामान लाने गया, तो किसी बात को लेकर उसका चाची से विवाद हो गया। इस बीच नौकर भी मौके पर आ गया और उसने मौका देखकर संकेत मिश्रा पर हमला कर दिया। इस मारपीट के दौरान धारदार हथियार से संकेत मिश्रा की हत्या कर दी गई। उसके बाद नौकर बिरसा ने खुद का पहना जींस और जैकेट को पेट्रोल से गीला कर शव को जलाकर पहचान छिपाने की कोशिश की।

मामला सामने आने के बाद पुलिस (Jharkhand Police) की जांच में यह बात भी सामने आई कि मृतक के मोबाइल पर उसकी चाची ने ही कई बार फोन किया था। दोनों के बीच पहले भी कई घंटे तक बात हुआ करती थी। यह बात सामने आने के बाद पुलिस ने मृतक की चाची को थाने में बुलाया, लेकिन चाची थाने में आने की जगह नौकर बिरसा के साथ पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ के जसपुर भाग गई। लेकिन पुलिस (Jharkhand Police) ने छत्तीसगढ़ पुलिस की मदद से उसे गिरफ्तार कर लिया।

जिले के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए एसडीपीओ तोरपा ओम प्रकाश तिवारी के नेतृत्व में आठ सदस्यीय एसआईटी (SIT) का गठन किया गया। पुलिस ने पूरी गंभीरता से मामले की जांच की। जिसमें मुख्य आरोपी मृतक की चाची को छत्तीसगढ़ के जसपुर से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार दोनों अभियुक्तों ने अपना-अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। आरोपियों की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त हथियार के अलावा दो मोबाइल और मोटरसाइकिल को भी जब्त किया गया है।

इससे बीच केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा शनिवार को तोरपा पहुंचे और शोकाकुल पत्रकार अनिल मिश्रा समेत परिजनों से मिले और सांत्वना दी। छोटे बेटे संकेत मिश्रा की निर्मम हत्या को लेकर दो दिन बीतने के बाद भी परिजनों के आंखों से आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे। बेटे अंकित के पिता पत्रकार अनिल मिश्रा बार-बार बेटे की हत्या की रोंगटे खड़े करने वाली बात बताकर रो रहे थे। शोकाकुल परिजनों को केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने ढांढ़स बंधाया।