Newsnowमंत्र-जापMaa kali: 6 प्रसिद्ध मंदिर, मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

Maa kali: 6 प्रसिद्ध मंदिर, मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

Maa Kali का नाम संस्कृत से निकला है जिसका अर्थ है 'वह जो काली है' या 'वह जो मृत्यु है', लेकिन उसे चतुर्भुज काली, छिन्नमस्ता या कौशिका के नाम से भी जाना जाता है।

Maa Kali मृत्यु, समय और प्रलय की देवी हैं। वह ब्रह्मांड के निर्माण से पहले के समय की अध्यक्षता करती है, लेकिन उन्हें एक मजबूत माँ की आकृति और मातृ प्रेम का प्रतीक भी माना जाता है। Maa Kali शक्ति का प्रतीक है। स्त्री ऊर्जा, रचनात्मकता और उर्वरता और भगवान शिव की पत्नी पार्वती का अवतार है। माँ काली को कटे हुए सिरों के हार, जीभ निकले हुए और खून से लथपथ खड्ग के साथ एक विकराल योद्धा के रूप में दर्शाया जाता है।

माँ काली का नाम संस्कृत से निकला है जिसका अर्थ है ‘वह जो काली है’ या ‘वह जो मृत्यु है’, लेकिन उसे चतुर्भुज काली, छिन्नमस्ता या कौशिका के नाम से भी जाना जाता है।

Maa Kali की विशेष रूप से पूर्वी और दक्षिणी भारत के असम, केरल, बंगाल में पूजा की जाती है। विशेष कर अमावस्या की रात को आयोजित होने वाली काली पूजा का वार्षिक उत्सव कलकत्ता के कालीघाट शहर के मंदिर में किया जाता है।

देवी महात्म्य के अनुसार देवी काली, देवी दुर्गा के शीर्ष के क्रोधित नेत्र से प्रकट हुई थीं। इस रूप को माँ काली के क्रोध का प्रकटीकरण माना जाता है। Maa Kali ने दानव चंड व मुंड और राक्षस रक्तबीज का वध किया था। ऐसा कहा जाता है कि देवी काली द्वारा राक्षस का वध करने के बाद भी उनका क्रोध शांत नहीं हुआ था इसलिए अंत में भगवान शिव को माँ काली के मार्ग पर लेटना पड़ा। देवी काली जैसे ही उन पर अपने कदम रख देती है, उनका क्रोध शांत हो जाता है।

भारत में सबसे प्रसिद्ध Maa Kali मंदिर

दक्षिणेश्वर काली मंदिर, पश्चिम बंगाल

Maa Kali: Mantra, Stotra, Chalisa and Aar
दक्षिणेश्वर काली मंदिर

Maa Kali विशेष रूप से दक्षिण भारत के राज्य केरल में व्यापक रूप से पूजी जाती है, देवी काली राक्षस दारिका को परास्त करने के लिए धरती पर प्रकट हुईं थी। जिन्होंने तीनों लोकों पर कब्ज़ा कर लिया था और धरती को भी नष्ट करना शुरू कर दिया। ऋषि नारद, शिव को दरिका की गतिविधियों के बारे में बताते हैं। क्रोधित शिव ने अपना तीसरा नेत्र खोला और उसमें से देवी काली प्रकट हुईं। देवी काली की यह उत्पत्ति केरल में लोकप्रिय है जहां भद्रकाली के रूप में पूजा की जाती है। दारिका और माँ काली के बीच हुई लड़ाई ने पूरे ब्रह्मांड को हिलाकर रख दिया और लंबी लड़ाई के बाद उन्होंने दारिका को मार डाला।

चामुंडा देवी, हिमाचल प्रदेश

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Chalisa, Aarti
राक्षसों ‘चंद’ और ‘मुंड’ को मारने के लिए देवी को चामुंडा के रूप में पूजा जाता है।

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में स्थित चामुंडा देवी मंदिर, चामुंडा देवी को समर्पित है, जिन्हें लाल साड़ी में लिपटे हुए दिखाया गया है। मंदिर में, मुख्य मूर्ति मुख्य प्रवेश द्वार से दिखाई देती है और मंदिर के किनारों पर भगवान भैरव और भगवान हनुमान की छवियाँ हैं जी देवी की रक्षा करती हैं। राक्षसों चंड व मुंड को मारने के लिए देवी को चामुंडा के रूप में पूजा जाता है।

कालीघाट मंदिर, कोलकाता

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Kaushal Chalisa and Aarti
Maa Kali की पूजा चौरंगा गिरि नामक एक दसनामी भिक्षु द्वारा की जाती है, और कलकत्ता के चौरंगी क्षेत्र का नाम उनके नाम पर रखा गया है।

कालीघाट Maa Kali मंदिर पश्चिम बंगाल में स्थित भारत के सबसे प्रसिद्ध काली मंदिरों में से एक है। कहा जाता है कि कलकत्ता नाम कालीघाट शब्द से लिया गया है। मंदिर आदि गंगा नामक एक छोटी नहर के किनारे पर है, जो हुगली नदी का मूल मार्ग था। Maa Kali की पूजा चौरंगा गिरि नामक एक दसनामी भिक्षु द्वारा की जाती है, और कलकत्ता के चौरंगी क्षेत्र का नाम उनके नाम पर रखा गया है।

कृपामयी काली मंदिर

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Kaushal Chalisa and Aarti
कृपामयी काली मंदिर कोलकाता के पास हुगली नदी के पूर्वी तट पर स्थित एक हिंदू मंदिर है।

कृपामयी काली मंदिर कोलकाता के पास हुगली नदी के पूर्वी तट पर स्थित एक हिंदू मंदिर है। मंदिर के देवता कृपामयी हैं, जो Maa Kali का एक रूप हैं। मंदिर का निर्माण जयराम मित्रा ने किया था, जो 1848 में एक प्रसिद्ध जमींदार और Maa Kali के भक्त थे। यह एक विशाल नौ शिखर वाला मंदिर है, जिसमें शिव और काली को समर्पित बारह मंदिर हैं।

श्री भद्रकाली देवस्वम मंदिर, तमिलनाडु

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Kaushal Chalisa and Aarti
श्री भद्रकाली मंदिर में भद्रा और रुद्र दोनों बहनों की पूजा की जाती है।

श्री भद्रकाली मंदिर तमिलनाडु के कोल्लेमकोड गांव में स्थित है। यह एक बहुत लोकप्रिय मंदिर है जिसे श्री भद्रकाली देवस्वोम के नाम से भी जाना जाता है जो अनुयायियों को भगवान भद्रकाली का आशीर्वाद प्रदान करता है, जिन्हें अनुयायियों को आशीर्वाद देने में सबसे कुशल देवी माना जाता है। इस मंदिर में दो देवीया हैं जिन्हें बहनें माना जाता है; बड़ी बहन भद्रा और छोटी रुद्रा। एक ही मंदिर में भद्रा और रुद्र दोनों बहनों की पूजा की जाती है।

यह भी पढ़ें: Maa Kalratri: इतिहास, उत्पत्ति और पूजा

कोल्लमकोड थुक्कम के नाम से जाना जाने वाला एक त्योहार हर साल श्री भद्रकाली देवस्वम के मंदिर में मनाया जाता है और इसमें ज्यादातर जोड़े आते हैं।

कालका देवी मंदिर, नई दिल्ली

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Kaushal Chalisa and Aarti
भारत में महाकाली के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है।

कालकाजी में स्थित, यह भारत में Maa Kali के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। न केवल भारत से, बल्कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों से भक्त महाकाली का आशीर्वाद लेने के लिए इस मंदिर में आते हैं। ऐसा माना जाता है कि देवी अपने भक्तों की शुद्ध हृदय और पूर्ण भक्ति के साथ मंदिर में पूजा करने की इच्छा को पूरा करती हैं।

Maa kali: मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

एक अन्य किंवदंती बताती है कि माँ काली देवी पार्वती का अवतार हैं और इस रूप में वह भगवान शिव की पत्नी हैं। Maa kali पार्वती का भयानक और हिंसक रूप है, जो करुणामय रूप में अन्यथा ‘शांत स्वरूपिणी’ हैं ।

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Chalisa Aarti
Maa kali: मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

Maa Kali मंत्र

Baisa Akshari Shree Dakshina Kali Mantra (22 Syllables Mantra)

ॐ क्रीं क्रीं क्रीं हूँ हूँ ह्रीं ह्रीं दक्षिणे कालिके

क्रीं क्रीं क्रीं हूँ हूँ ह्रीं ह्रीं स्वाहा॥

Om Kreem Kreem Kreem Hum Hum Hreem Hreem Dakshine Kalike

Kreem Kreem Kreem Hum Hum Hreem Hreem Svaha॥

Ekakshari Kali Mantra (1 Syllable Mantra)

ॐ क्रीं

Om Kreem

Tin Akshari Kali Mantra (3 Syllables Mantra)

ॐ क्रीं ह्रुं ह्रीं॥

Om Kreem Hrum Hreem॥

Panchakshari Kali Mantra (5 Syllables Mantra)

ॐ क्रीं ह्रुं ह्रीं हूँ फट्॥

Om Kreem Hrum Hreem Hum Phat॥

Shadakshar Kali Mantra (6 Syllables Mantra)

ॐ क्रीं कालिके स्वाहा॥

Om Kreem Kalike Svaha॥

Saptakshari Kali Mantra (7 Syllables Mantra)

ॐ हूँ ह्रीं हूँ फट् स्वाहा॥

Om Hum Hreem Hum Phat Svaha॥

Shree Dakshina Kali Mantra

ॐ ह्रीं ह्रीं ह्रुं ह्रुं क्रीं क्रीं क्रीं

दक्षिणकालिके क्रीं क्रीं क्रीं ह्रुं ह्रुं ह्रीं ह्रीं॥

Om Hreem Hreem Hrum Hrum Kreem Kreem Kreem

Dakshina Kalike Kreem Kreem Kreem Hrum Hrum Hreem Hreem॥

Shree Dakshina Kali Mantra

क्रीं ह्रुं ह्रीं दक्षिणेकालिके क्रीं ह्रुं ह्रीं स्वाहा॥

Kreem Hrum Hreem Dakshine Kalike Kreem Hrum Hreem Svaha॥

Shree Dakshina Kali Mantra

ॐ ह्रुं ह्रुं क्रीं क्रीं क्रीं ह्रीं ह्रीं

दक्षिणकालिके ह्रुं ह्रुं क्रीं क्रीं क्रीं ह्रीं ह्रीं स्वाहा॥

Om Hrum Hrum Kreem Kreem Kreem Hreem Hreem

Dakshina Kalike Hrum Hrum Kreem Kreem Kreem Hreem Hreem Svaha॥

Shree Dakshina Kali Mantra

ॐ क्रीं क्रीं क्रीं ह्रुं ह्रुं ह्रीं ह्रीं दक्षिणकालिके स्वाहा॥

Om Kreem Kreem Kreem Hrum Hrum Hreem Hreem Dakshina Kalike Svaha॥

Bhadrakali Mantra

ॐ ह्रौं काली महाकाली किलिकिले फट् स्वाहा॥

Om Hraum Kali Mahakali Kilikile Phat Svaha॥

Shree Shmashan Kali Mantra

ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं कालिके क्लीं श्रीं ह्रीं ऐं॥

Aim Hreem Shreem Kleem Kalike Kleem Shreem Hreem Aim॥

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Chalisa, Aarti
Maa kali: मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

Maa Kali स्तुति

शव पर सवार

शमशान वासिनी भयंकरा

विकराल दन्तावली,त्रिनेत्रा

हाथ में लिये खडग

और कटा सिर

दिगम्बरा

अट्टहास करती माँ काली

जय माँ काली

मुक्तकेशी लपलपाती जिहवा वाली

दे रही अभय वरदान हमेशा

चार बाहों वाली

जय माँ काली

आओ करें हम ध्यान उनका

सृजन करनेवाली

सब कुछ देनेवाली

माँ काली

जय माँ काली

Maa kali स्तोत्र

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Chalisa, Aarti
Maa kali: मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

अनादिं सुरादिं मखादिं भवादिं, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।।1।।

जगन्मोहिनीयं तु वाग्वादिनीयं, सुहृदपोषिणी शत्रुसंहारणीयं |

वचस्तम्भनीयं किमुच्चाटनीयं, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।।2।।

इयं स्वर्गदात्री पुनः कल्पवल्ली, मनोजास्तु कामान्यथार्थ प्रकुर्यात |

तथा ते कृतार्था भवन्तीति नित्यं, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।।3।।

सुरापानमत्ता सुभक्तानुरक्ता, लसत्पूतचित्ते सदाविर्भवस्ते |

जपध्यान पुजासुधाधौतपंका, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।।4।।

चिदानन्दकन्द हसन्मन्दमन्द, शरच्चन्द्र कोटिप्रभापुन्ज बिम्बं |

मुनिनां कवीनां हृदि द्योतयन्तं, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।।5।।

महामेघकाली सुरक्तापि शुभ्रा, कदाचिद्विचित्रा कृतिर्योगमाया |

न बाला न वृद्धा न कामातुरापि, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।। 6।।

क्षमास्वापराधं महागुप्तभावं, मय लोकमध्ये प्रकाशीकृतंयत् |

तवध्यान पूतेन चापल्यभावात्, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।। 7।।

यदि ध्यान युक्तं पठेद्यो मनुष्य, स्तदा सर्वलोके विशालो भवेच्च |

गृहे चाष्ट सिद्धिर्मृते चापि मुक्ति, स्वरूपं त्वदीयं न विन्दन्ति देवाः ।।8।।

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Chalisa, Aarti
Maa Kali: : मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, चालीसा, आरती

Maa kali कवच

नारद उवाच

कवचं श्रोतुमिच्छामि तां च विद्यां दशाक्षरीम् ।
नाथ त्वत्तो हि सर्वज्ञ भद्रकाल्याश्च सांप्रतम् ।। 1 ।।

नारायण उवाच

श्रुणु नारद वक्ष्यामि महाविद्यां दशाक्षरीम् ।
गोपनीयं च कवचं त्रिषु लोकेषु दुर्लभम् ।। २ ।।

ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं कालिकायै स्वाहेति च दशाक्षरीम् ।
दुर्वासा हि ददौ राज्ञे पुष्करे सुर्यपर्वणि ।। ३ ।।

दशलक्षजपेनैव मन्त्रसिद्धिः कृता पुरा ।
पञ्चलक्षजपेनैव पठन् कवचमुत्तमम् ।। ४ ।।

बभूव सिद्धकवचोSप्ययोध्यामाजगाम सः ।
कृत्स्रां हि पृथिवीं जिग्ये कवचस्य प्रसादतः ।। ५ ।।

नारद उवाच

श्रुता दशाक्षरी विद्या त्रिषु लोकेषु दुर्लभा ।
अधुना श्रोतुमिच्छामि कवचं ब्रुहि मे प्रभो ।। ६ ।।

नारायण उवाच

श्रुणु वक्ष्यामि विप्रेन्द्र कवचं परामाद्भुतम् ।
नारायणेन यद् दत्तं कृपया शूलिने पुरा ।। ७ ।।

त्रिपुरस्य वधे घोरे शिवस्य विजयाय च ।
तदेव शूलिना दत्तं पुरा दुर्वाससे मुने ।। ८ ।।

दुर्वाससा च यद् दत्तं सुचन्द्राय महात्मने ।
अतिगुह्यतरं तत्त्वं सर्वमन्त्रौघविग्रहम् ।। ९ ।।

ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं कालिकायै स्वाहा मे पातु मस्तकम् ।
क्लीं कपालं सदा पातु ह्रीं ह्रीं ह्रींमिति लोचने ।। १० ।।

ॐ ह्रीं त्रिलोचने स्वाहा नासिकां मे सदावतु ।
क्लीं कालिके रक्ष रक्ष स्वाहा दन्तं सदावतु ।। ११ ।।

ह्रीं भद्रकालिके स्वाहा पातु मेsधरयुग्मकम् ।
ॐ ह्रीं ह्रीं क्लीं कालिकायै स्वाहा कण्ठं सदावतु ।। १२ ।।

ॐ ह्रीं कालिकायै स्वाहा कर्णयुग्मं सदावतु ।
ॐ क्रीं क्रीं क्लीं काल्यै स्वाहा स्कन्धं पातु सदा मम ।। १३ ।।

ॐ क्रीं भद्रकाल्यै स्वाहा मम वक्षः सदावतु ।
ॐ क्रीं कालिकायै स्वाहा मम नाभिं सदावतु ।। १४ ।।

ॐ ह्रीं कालिकायै स्वाहा मम पृष्टं सदावतु ।
रक्तबीजविनाशिन्यै स्वाहा हस्तौ सदावतु ।। १५ ।।

ॐ ह्रीं क्लीं मुण्डमालिन्यै स्वाहा पादौ सदावतु ।
ॐ ह्रीं चामुण्डायै स्वाहा सर्वाङ्गं मे सदावतु ।। १६ ।।

प्राच्यां पातु महाकाली आग्नेय्यां रक्तदन्तिका ।
दक्षिणे पातु चामुण्डा नैऋत्यां पातु कालिका ।। १७ ।।

श्यामा च वारुणे पातु वायव्यां पातु चण्डिका ।
उत्तरे विकटास्या च ऐशान्यां साट्टहासिनि ।। १८ ।।

ऊर्ध्वं पातु लोलजिह्वा मायाद्या पात्वधः सदा ।
जले स्थले चान्तरिक्षे पातु विश्वप्रसूः सदा ।। १९ ।।

इति ते कथितं वत्स सर्वमन्त्रौघविग्रहम् ।
सर्वेषां कवचानां च सारभूतं परात्परम् ।। २० ।।

सप्तद्वीपेश्वरो राजा सुचन्द्रोSस्य प्रसादतः ।
कवचस्य प्रसादेन मान्धाता पृथिवीपतिः ।। २१ ।।

प्रचेता लोमशश्चैव यतः सिद्धो बभूव ह ।
यतो हि योगिनां श्रेष्टः सौभरिः पिप्पलायनः ।। २२ ।।

यदि स्यात् सिद्धकवचः सर्वसिद्धीश्वरो भवेत् ।
महादानानि सर्वाणि तपांसि च व्रतानि च ।
निश्चितं कवचस्यास्य कलां नार्हन्ति षोडशीम् ।। २३ ।।

इदं कवचमज्ञात्वा भजेत् कालीं जगत्प्रसूम् ।
शतलक्षप्रजप्तोSपि न मन्त्रः सिद्धिदायकः ।। २४ ।।

।। इति श्रीब्रह्मवैवर्ते कालीकवचं संपूर्णम् ।।

Maa Kali: Mantra, Stotra, Chalisa and Aarti
Maa kali: मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

Maa Kali चालीसा

॥ दोहा ॥

जयकाली कलिमलहरण, महिमा अगम अपार ।
महिष मर्दिनी कालिका , देहु अभय अपार ॥

॥ चौपाई ॥

रि मद मान मिटावन हारी । मुण्डमाल गल सोहत प्यारी ॥
अष्टभुजी सुखदायक माता । दुष्टदलन जग में विख्याता ॥
भाल विशाल मुकुट छवि छाजै । कर में शीश शत्रु का साजै ॥
दूजे हाथ लिए मधु प्याला । हाथ तीसरे सोहत भाला ॥

चौथे खप्पर खड्ग कर पांचे । छठे त्रिशूल शत्रु बल जांचे ॥
सप्तम करदमकत असि प्यारी । शोभा अद्भुत मात तुम्हारी ॥
अष्टम कर भक्तन वर दाता । जग मनहरण रूप ये माता ॥
भक्तन में अनुरक्त भवानी । निशदिन रटें ॠषी-मुनि ज्ञानी ॥

महशक्ति अति प्रबल पुनीता । तू ही काली तू ही सीता ॥
पतित तारिणी हे जग पालक । कल्याणी पापी कुल घालक ॥
शेष सुरेश न पावत पारा । गौरी रूप धर्यो इक बारा ॥
तुम समान दाता नहिं दूजा । विधिवत करें भक्तजन पूजा ॥

रूप भयंकर जब तुम धारा । दुष्टदलन कीन्हेहु संहारा ॥
नाम अनेकन मात तुम्हारे । भक्तजनों के संकट टारे ॥
कलि के कष्ट कलेशन हरनी । भव भय मोचन मंगल करनी ॥
महिमा अगम वेद यश गावैं । नारद शारद पार न पावैं ॥

भू पर भार बढ्यौ जब भारी । तब तब तुम प्रकटीं महतारी ॥
आदि अनादि अभय वरदाता । विश्वविदित भव संकट त्राता ॥
कुसमय नाम तुम्हारौ लीन्हा । उसको सदा अभय वर दीन्हा ॥
ध्यान धरें श्रुति शेष सुरेशा । काल रूप लखि तुमरो भेषा ॥

कलुआ भैंरों संग तुम्हारे । अरि हित रूप भयानक धारे ॥
सेवक लांगुर रहत अगारी । चौसठ जोगन आज्ञाकारी ॥
त्रेता में रघुवर हित आई । दशकंधर की सैन नसाई ॥
खेला रण का खेल निराला । भरा मांस-मज्जा से प्याला ॥

रौद्र रूप लखि दानव भागे । कियौ गवन भवन निज त्यागे ॥
तब ऐसौ तामस चढ़ आयो । स्वजन विजन को भेद भुलायो ॥
ये बालक लखि शंकर आए । राह रोक चरनन में धाए ॥
तब मुख जीभ निकर जो आई । यही रूप प्रचलित है माई ॥

बाढ्यो महिषासुर मद भारी । पीड़ित किए सकल नर-नारी ॥
करूण पुकार सुनी भक्तन की । पीर मिटावन हित जन-जन की ॥
तब प्रगटी निज सैन समेता । नाम पड़ा मां महिष विजेता ॥
शुंभ निशुंभ हने छन माहीं । तुम सम जग दूसर कोउ नाहीं ॥

मान मथनहारी खल दल के । सदा सहायक भक्त विकल के ॥
दीन विहीन करैं नित सेवा । पावैं मनवांछित फल मेवा ॥
संकट में जो सुमिरन करहीं । उनके कष्ट मातु तुम हरहीं ॥
प्रेम सहित जो कीरति गावैं । भव बन्धन सों मुक्ती पावैं ॥

काली चालीसा जो पढ़हीं । स्वर्गलोक बिनु बंधन चढ़हीं ॥
दया दृष्टि हेरौ जगदम्बा । केहि कारण मां कियौ विलम्बा ॥
करहु मातु भक्तन रखवाली । जयति जयति काली कंकाली ॥
सेवक दीन अनाथ अनारी । भक्तिभाव युति शरण तुम्हारी ॥

॥ दोहा ॥

प्रेम सहित जो करे, काली चालीसा पाठ ।
तिनकी पूरन कामना, होय सकल जग ठाठ ॥

Maa Kali: Mantra, Praise, Stotra, Chalisa, Aarti
Maa kali: मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, कवच चालीसा और आरती

Maa kali की आरती

अम्बे तू है जगदम्बे काली,
जय दुर्गे खप्पर वाली ।
तेरे ही गुण गाये भारती,
ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥

तेरे भक्त जनो पर,
भीर पडी है भारी माँ ।
दानव दल पर टूट पडो,
माँ करके सिंह सवारी ।
सौ-सौ सिंहो से बलशाली,
अष्ट भुजाओ वाली,
दुष्टो को पलमे संहारती ।
ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥

अम्बे तू है जगदम्बे काली,
जय दुर्गे खप्पर वाली ।
तेरे ही गुण गाये भारती,
ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥

माँ बेटे का है इस जग मे,
बडा ही निर्मल नाता ।
पूत – कपूत सुने है पर न,
माता सुनी कुमाता ॥
सब पे करूणा दरसाने वाली,
अमृत बरसाने वाली,
दुखियो के दुखडे निवारती ।
ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥

अम्बे तू है जगदम्बे काली,
जय दुर्गे खप्पर वाली ।
तेरे ही गुण गाये भारती,
ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥

नही मांगते धन और दौलत,
न चांदी न सोना माँ ।
हम तो मांगे माँ तेरे मन मे,
इक छोटा सा कोना ॥
सबकी बिगडी बनाने वाली,
लाज बचाने वाली,
सतियो के सत को सवांरती ।
ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥

अम्बे तू है जगदम्बे काली,
जय दुर्गे खप्पर वाली ।
तेरे ही गुण गाये भारती,
ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥