सोमवार, अक्टूबर 25, 2021
Newsnowप्रमुख ख़बरेंप्रियंका गांधी, राहुल गांधी, मायावती ने Nomination Filing के दौरान हिंसा को...

प्रियंका गांधी, राहुल गांधी, मायावती ने Nomination Filing के दौरान हिंसा को लेकर यूपी सरकार की खिंचाई की

प्रखंड अध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने (Nomination Filing) की प्रक्रिया के दौरान राज्य के विभिन्न हिस्सों में हिंसा के कई मामले सामने आए।

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और बहुजन समाज पार्टी (BSP) अध्यक्ष मायावती ने शनिवार को ब्लॉक अध्यक्ष चुनाव के लिए Nomination Filing के दौरान हिंसा की घटनाओं को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार की खिंचाई की।

Nomination Filing को लेकर क्या कहा राहुल गांधी ने 

राहुल गांधी ने ट्विटर पर राज्य के विभिन्न हिस्सों में ब्लॉक अध्यक्ष चुनाव के लिए Nomination Filing के दौरान हिंसा की घटनाओं का विवरण देते हुए एक अखबार की क्लिपिंग साझा की।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘उत्तर प्रदेश में ‘हिंसा’ का नाम बदलकर ‘मास्टरस्ट्रोक’ कर देना चाहिए।

Rahul Gandhi: पीएम कोविड की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार

Nomination Filing को लेकर प्रियंका गांधी 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) सरकार पर एक महिला को Nomination Filing से रोकने और उसके साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया है।

उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो क्लिप भी शेयर किया, जिसमें लोग एक महिला के साथ बदसलूकी कर रहे हैं।

Priyanka Gandhi ने कहा “जब मनमोहन सिंह संकटों के दौरान सलाह देते हैं, तो सुनें”

प्रियंका ने कहा, ‘कुछ साल पहले एक रेप पीड़िता ने बीजेपी विधायक के खिलाफ आवाज उठाई थी, पूरे परिवार समेत उसे मारने की कोशिश की गई थी। आज बीजेपी ने एक महिला का नामांकन रोकने के लिए सारी हदें पार कर दी। वही सरकार, वही व्यवहार,’ गांधी ने एक ट्वीट में कहा।

Nomination Filing को लेकर मायावती 

बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati) ने भी भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि राज्य में कोई कानून-व्यवस्था नहीं है, लेकिन “जंगल राज” है।

“उत्तर प्रदेश की वर्तमान भाजपा सरकार में भी जंगलराज के अलावा कोई कानून नहीं है, जिसके तहत पंचायत चुनाव में असंख्य हिंसा हो रही है और लखीमपुर खीरी की एक महिला के साथ दुर्व्यवहार भी बहुत शर्मनाक है। क्या यह उनका कानून का शासन और लोकतंत्र है? यह सोचने वाली बात है,” बसपा प्रमुख ने कहा।

उन्होंने आगे पूछा कि जब दलितों के घर तबाह हो रहे हैं तो केंद्र और यूपी सरकार के दलित मंत्री चुप क्यों हैं?

“और अब आजमगढ़ जिले की तरह, चंदौली जिले के बरथरा खुर्द गांव में, दलितों के घर उत्पीड़ितों द्वारा नष्ट और उत्पीड़ित किए जाते हैं, क्या यह उनका दलित प्रेम है? और दुख की बात यह है कि अभी भी केंद्र और यूपी सरकार के दलित मंत्री चुप क्यों हैं? यह बहुत ही विचारोत्तेजक है।”

Nomination Filing को लेकर जगह जगह हिंसा 

प्रखंड अध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया के दौरान राज्य के विभिन्न हिस्सों में हिंसा की खबरें आई थीं।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने शुक्रवार को लखीमपुर खीरी जिले में ब्लॉक अध्यक्ष चुनाव के लिए Nomination Filing के दौरान एक महिला उम्मीदवार के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया।

बहराइच जिले में प्रखंड अध्यक्ष का चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी के एक रिश्तेदार की शुक्रवार तड़के हत्या कर दी गई। पुलिस के अनुसार प्रखंड विकास परिषद चुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी समेत चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

Rahul Gandhi का केंद्र पर हमला “ज़ीरो” Covid प्लान, लॉकडाउन के ख़िलाफ़ लेकिन….

गोरखपुर जिले में प्रखंड अध्यक्ष का चुनाव लड़ रही भाजपा प्रत्याशी वंदना सिंह पर उस समय हमला किया गया जब वह गुरुवार को नामांकन पत्र दाखिल करने (Nomination Filing) के लिए चारगावां प्रखंड पहुंचीं। उनके समर्थकों पर भी हमला किया गया और श्रीमती सिंह के पति रणविजय सिंह सहित लगभग दो दर्जन लोग घायल हो गए।

श्रीमती सिंह ने आरोप लगाया है कि समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पथराव किया और उनके वाहनों में तोड़फोड़ की और पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए लाठीचार्ज किया।

प्रखंड अध्यक्ष चुनाव की नामांकन प्रक्रिया के दौरान बस्ती में भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प हो गयी। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया। हिंसा के दौरान पुलिस वाहनों में भी तोड़फोड़ की गई।

सीतापुर में नामांकन दाखिल करने के दौरान भाजपा और निर्दलीय उम्मीदवारों के समर्थकों के बीच झड़प में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

जौनपुर में बुधवार रात दो उम्मीदवारों के समर्थकों के बीच हुई हिंसा में पांच लोग घायल हो गए और कई वाहनों में तोड़फोड़ भी की गई।

Priyanka Gandhi ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख सुझाव दिए।

इससे पहले शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश देते हुए क्षेत्राधिकारी और थाना प्रभारी को निलंबित करने के निर्देश दिए।

टीम 9 की बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “किसी भी परिस्थिति में कानून-व्यवस्था को बाधित करने के किसी भी प्रयास को स्वीकार नहीं किया जाएगा। पुलिस को अतिरिक्त सतर्कता और संवेदनशीलता के साथ कार्य करना चाहिए। प्रदर्शन करने वालों के हथियार जब्त कर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।”

उत्तर प्रदेश में प्रखंड पंचायत प्रमुख के लिए मतदान शनिवार सुबह 11 बजे से शुरू होकर दोपहर 3 बजे तक चलेगा।