Newsnowदेशकिसानों के 8 दिसंबर को बुलाए गए ‘भारत बंद’ के समर्थन में...

किसानों के 8 दिसंबर को बुलाए गए ‘भारत बंद’ के समर्थन में अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को कहा कि देशभर में आप कार्यकर्ता ‘भारत बंद’ का समर्थन करेंगे. उन्होंने सभी नागरिकों से किसानों का समर्थन करने की अपील की है.

नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) ने नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों द्वारा 8 दिसंबर को किए गए “भारत बंद” के आह्वान का समर्थन किया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने रविवार को कहा कि देशभर में आप कार्यकर्ता राष्ट्रव्यापी हड़ताल का समर्थन करेंगे. उन्होंने सभी नागरिकों से किसानों का समर्थन करने की अपील की.

अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘8 दिसंबर को किसानों द्वारा किए गए भारत बंद के आह्वान का आम आदमी पार्टी पूरी तरह से समर्थन करती है। देश भर में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता शांतिपूर्ण तरीक़े से इसका समर्थन करेंगे। सभी देशवासियों से अपील है की सब लोग किसानो का साथ दें और इसमें हिस्सा लें’

आप नेता और दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने भी ट्वीट कर कहा कि सभी कार्यकर्ता किसानों के समर्थन में बंद में भाग लेंगे. गोपाल राय ने ट्वीट किया, ‘भाजपा सरकार द्वारा बनाए गए तीनों कृषि क़ानूनों के विरोध में किसानों द्वारा आयोजित 8 दिसम्बर को भारत बंद का राष्ट्रीय संयोजक @ArvindKejriwal जी के आह्वान पर आम आदमी पार्टी पूरे देश में करेगी समर्थन। 

उन्होंने आगे कहा की देश भर के सभी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता बंद को सफल बनाने में सहयोग करें।’. इसके अलावा गोपाल राय ने एक वीडियो संदेश भी जारी किया है. उसमें उन्होंने कहा, ‘यह केवल किसानों की नहीं, बल्कि सभी देशवासियों की लड़ाई है. भारत एक कृषि प्रधान देश है और यदि किसान अप्रसन्न हैं तो देश पर भी इसका असर पड़ता है. मैं सभी से प्रदर्शन में शामिल होने की अपील करता हूं.’

आपको ध्यान दिला दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक शुरू से किसान आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं. उन्होंने अपनी पार्टी की ओर से भी किसानों की मदद करवाई है. केंद्र के नए कृषि कानून का विरोध कर रहे जो किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हैं, उनके लिए खाना-पानी और रहने की व्यवस्था दिल्ली की सरकार ने करवाई है. इसके अलावा वहां एंबुलेंस-शौचालय इत्यादि भी भेजे गए हैं. डॉक्टरों की टीम भी बॉर्डर पर भेजी गई है ताकि वे आंदोलनरत किसानों की सेहत की जांच करें.