शनिवार, अक्टूबर 23, 2021
NewsnowदेशToolkit Case: खुद को पुलिस वाला बताकर Shantanu Muluk के घर से...

Toolkit Case: खुद को पुलिस वाला बताकर Shantanu Muluk के घर से ले गए हार्ड डिस्क

खुद को पुलिस वाला बताकर दो लोग घर से ले गए हार्ड डिस्क, दोनों ने शांतनु मुलुक (Shantanu Muluk) के परिवार को बताया कि दिल्ली पुलिस शांतनु के बारे में जानना चाहती है और कहा कि शांतनु ने राजद्रोह किया है और वह ‘‘खालिस्तान समर्थक लोगों’’ के संपर्क में थे.

Mumbai: दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के कर्मी होने का दावा करने वाले दो लोगों ने ‘‘बिना किसी तलाशी वारंट” के महाराष्ट्र के बीड में 12 फरवरी को टूलकिट (Toolkit) मामले में संदिग्ध, पर्यावरण कार्यकर्ता शांतनु मुलुक (Shantanu Muluk) के आवास से कंप्यूटर की एक हार्ड डिस्क (Computer Hard Disk) और अन्य सामग्री जब्त कर लीं. शांतनु (Shantanu Muluk) के पिता शिवलाल मुलुक ने स्थानीय पुलिस को इस बारे में बताया है. बीड के पुलिस अधीक्षक राजा रामास्वामी ने बताया कि शिवलाल मुलुक ने मंगलवार को पुलिस को इस संबंध में एक अभ्यावेदन दिया है.

Greta Thunberg Toolkit Case: 21 साल की एक्टिविस्ट दिशा रवि बेंगलुरु से गिरफ्तार

रामास्वामी ने बुधवार को बताया, ‘‘हमें कल अभ्यावेदन मिला है. हम जांच करेंगे और जरूरी कदम उठाएंगे.” बॉम्बे हाईकोर्ट ने मंगलवार को शांतनु मुलुक (Shantanu Muluk) को 10 दिनों के लिए अग्रिम जमानत दे दी थी. एक अधिकारी ने बताया कि शिवलाल मुलुक (54) ने ‘‘जिम्मेदार नागरिक” के तौर पर बीड पुलिस को यह अभ्यावेदन दिया और पुलिस अधीक्षक से उनके आवास की ‘‘तलाशी” के संबंध में उचित कदम उठाने का अनुरोध किया. आवेदन में कहा गया है कि दो लोग 12 फरवरी को सुबह साढ़े पांच बजे बीड के चाणक्यपुरी इलाके में मुलुक के घर पहुंचे और उन्होंने अपने पहचान पत्र दिखाकर खुद को दिल्ली पुलिस का अधिकारी बताया.

दिशा रवि, निकिता जैकब और शांतनु ने “Toolkit” बनाई और शेयर किया-दिल्‍ली पुलिस

दोनों ने मुलुक के परिवार को बताया कि दिल्ली पुलिस Shantanu Muluk के बारे में जानना चाहती है और कहा कि शांतनु ने राजद्रोह किया तथा वह ‘‘खालिस्तान समर्थक लोगों” के संपर्क में थे. आवेदन में कहा गया है कि दोनों कर्मियों ने आवास के सभी कमरों की तलाशी ली और शांतनु के कमरे से कंप्यूटर की एक हार्ड डिस्क, पर्यावरण संबंधी पोस्टर, एक किताब और मोबाइल फोन का कवर ले गए. शिवलाल मुलुक के मुताबिक पुलिस अधिकारियों ने कोई तलाशी वारंट नहीं दिखाया, ना ही इन सामानों को ले जाने के पहले परिवार से अनुमति ली.

ममता बनर्जी ने दिशा रवि की Toolkit case में गिरफ्तारी को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला

पुलिस अधिकारियों ने जब्त सामग्री का पंचनामा भी तैयार नहीं किया. दिल्ली पुलिस के मुताबिक, Shantanu Muluk और मुंबई की वकील निकिता जैकब (Nikita Jacob) बेंगलुरु की कार्यकर्ता दिशा रवि (Disha Ravi) के साथ ‘‘टूलकिट” (Toolkit) दस्तावेज तैयार करने में शामिल थे और वे ‘‘खालिस्तान समर्थक तत्वों” के संपर्क में थे.