NewsnowदेशPMAY: सीबीआई ने कहा, DHFL निदेशकों ने करोड़ों का घोटाला किया

PMAY: सीबीआई ने कहा, DHFL निदेशकों ने करोड़ों का घोटाला किया

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) सभी के लिए आवास सुनिश्चित करने के लिए एक केंद्रीय योजना है और अक्टूबर 2015 में घोषित की गई थी

नई दिल्ली: सीबीआई (CBI) ने बुधवार को प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) से जुड़े एक घोटाले का खुलासा किया और कपिल और धीरज वाधवान के खिलाफ मामला दर्ज किया, दोनों भाई संकटग्रस्त दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (DHFL) के प्रमोटर हैं और जेल में हैं। उनके ऊपर धोखाधड़ी और धनशोधन के आरोप हैं।

सीबीआई (CBI) के अनुसार, कपिल और धीरज वाधवान ने “नकली और काल्पनिक” 14,000 करोड़ रुपये से अधिक के होम लोन खाते बनाए और भारत सरकार से ब्याज सब्सिडी में लगभग 1,880 करोड़ का लाभ उठाया।

CBI ने करप्शन केस में अपने ही 4 अधिकारियों के खिलाफ दर्ज की FIR

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) सभी के लिए आवास सुनिश्चित करने के लिए एक केंद्रीय योजना है जो अक्टूबर 2015 में घोषित की गई थी। इस योजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) और निम्न और मध्यम आय वर्ग के लोगों को ऋण से जुड़े ब्याज में सब्सिडी दी जाती है। ख़रीदारों को लोन देने के बाद सब्सिडी का दावा वित्त संस्थानों द्वारा किया जाता है, जैसे कि डीएचएफएल (DHFL) या कोई अन्य बैंक जिसने ये ऋण दिए हैं। यह सब्सिडी हर वर्ष 3 से 6.5 फीसदी तक होती है.

सीबीआई के अनुसार, दिसंबर 2018 में डीएचएफएल ने निवेशकों को बताया कि उसने पीएमएवाई (PMAY) के तहत 88,651 ऋणों को संसाधित किया और 539.4 करोड़ प्राप्त किए, जबकि 1,347.8 करोड़ अभी बक़ाया हैं।

PMAY: प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के क्रियान्वयन में मिर्जापुर को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ

हालांकि, फोरेंसिक ऑडिट में पता चला कि कपिल और धीरज वधावन ने 2.6 लाख फर्जी हाउसिंग लोन खाते खोले थे – जिनमें से कई पीएमएवाई (PMAY) योजना के तहत थे और नियमों के अनुसार ब्याज सब्सिडी का दावा किया था, संगठन की एक शाखा बांद्रा में है जहाँ ये खाते खोले गए. सीबीआई ने आरोप लगाया है की 2007 और 2019 के बीच इन खातों को 14,046 करोड़ की राशि मंज़ूरी दी गई थी, जिनमें से 11,755 को अन्य काल्पनिक फर्मों में स्थानांतरित कर दिया गया।

पिछले साल जून में सीबीआई ने वाधवान भाइयों (Wadhawan Brothers) और यस बैंक (Yes Bank) के संस्थापक राणा कपूर के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था और आरोप लगाया गया था कि श्री कपूर के परिवार को डीएचएफएल (DHFL) में निवेश के लिए भारी मात्रा में रिश्वत दी गयी थी।

यह घोटाला अप्रैल और जून के बीच 2018 में हुआ था जब यस बैंक ने डीएचएफएल के डिबेंचर में 3,700 करोड़ का निवेश किया था। जिसके बदले में,  वाधवान बंधुओं ने कथित तौर पर राणा कपूर की पत्नी और बेटियों द्वारा नियंत्रित फर्म को ऋण के रूप में 600 करोड़ का भुगतान किया।