NewsnowविदेशChina फिर से बढ़ा रहा लद्दाख में सैनिकों की तैनाती: रिपोर्ट

China फिर से बढ़ा रहा लद्दाख में सैनिकों की तैनाती: रिपोर्ट

करीब चार महीने पहले वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर और सैनिकों की तैनाती के अपने प्रस्ताव का चीन (China) ने ही उल्लंघन किया है। दोनों देशों के बीच तय हुआ था कि सैनिकों की संख्या नहीं बढ़ाई जाएगी।

करीब चार महीने पहले वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर और सैनिकों की तैनाती के अपने प्रस्ताव का चीन (China) ने ही उल्लंघन किया है। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख में अपनी स्थिति मजबूत की है और चुपके से अपने सैनिकों की संख्या भी बढ़ा दी है। चीन (China) ने प्रस्ताव दिया था कि दोनों देश अब अपने सैनिक नहीं बढ़ाएंगे।

China again increasing deployment of troops in Ladakh
(File Photo)

चीन चोरी-छिपे अपनी सेना बढ़ा रहा है 

सितंबर में दोनों पक्षों की ओर से बयान जारी किया गया था जिसे सकारात्मक कदम माना जा रहा था। इस दौरान दोनों ने ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाने का वादा किया था जिससे स्थिति और जटिल हो जाए। सेना के सूत्रों के मुताबिक चार महीने बाद चीन(China) ने इसका उल्लंघन किया है। इंडिया टुडे ने दावा किया है कि चीन चोरी-छिपे लद्दाख के देपसांग में अपनी स्थिति मजबूत कर रहा है और दौलत बेग ओल्डी के पास नई जगहों पर तैनाती कर रहा है। 

राजस्थान जैसलमेर- पीएम मोदी ने चीन और पाकिस्तान को दिया कड़ा संदेश

भारत ने लौटाए थे दो चीनी सैनिक

चीन (China) की हरकतों को देखते हुए भारत भी पहले से अपनी मजबूती के लिए कदम उठाने को मजूबर है। अभी सीमा के दोनों तरफ करीब 50-50 हजार सैनिक तैनात हैं और ये कोशिश की जा रही है कि कोई अनहोनी ना हो। भारत ने हाल ही में दो चीनी सैनिकों को सीमा के पार पहुंचाया है, जो रास्ता भटक कर सीमा लांघ गए थे। मई में तनाव शुरू होने के बाद चीनी सेना एलएसी (LAC) से करीब 8 किलोमीटर अंदर तक आ गई थी और पूर्वी लद्दाख में कई जगह तंबू लगा लिए थे। 

Corona Virus: बढ़ते मामलों के चलते चीन के कई प्रांतों में पाबंदी बढ़ाई गई।

भारतीय सैनिकों ने चीन को चौंकाया था

भारत की ओर से विरोध के बावजूद चीनी सेना (China Army) पीछे नहीं हटी और दोनों ही देशों की सेनाओं ने अतिरिक्त सैन्य बल सीमा पर तैनात कर दिया। साथ ही टैंक, आर्टिलरी और हवाई हमला करने की भी पूरी तैयारी सीमा पर होने लगी। पिछले साल अगस्त में भारतीय सैनिकों ने चीनी सेना को चौंका दिया था, जब पैंगोंग त्सो के दक्षिणी किनारे पर कब्जा कर लिया था। भारतीय सैनिक गुरुंग हिल, मगर हिल, मुखपरी, रेचिन ला और रेजैंग ला में भी अपना दबदबा कायम करने में सफल रहे।