शुक्रवार, अक्टूबर 22, 2021
Newsnowप्रमुख ख़बरेंभारत की Covid Vaccination गति जुलाई में बढ़ने की संभावना नहीं

भारत की Covid Vaccination गति जुलाई में बढ़ने की संभावना नहीं

जुलाई के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को टीकाकरण (Covid Vaccination) के लिए बारह करोड़ वैक्सीन की खुराक सौंपी गई है, सरकार ने शनिवार को एक हलफनामे में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) को बताया।

नई दिल्ली: जुलाई के लिए कोविड वैक्सीन आपूर्ति पर सरकार के नवीनतम आंकड़े बताते हैं कि यह अपने दैनिक टीकाकरण (Covid Vaccination) लक्ष्यों से कम हो सकता है।

जुलाई के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को टीकाकरण (Covid Vaccination) के लिए बारह करोड़ वैक्सीन की खुराक सौंपी गई है, सरकार ने शनिवार को एक हलफनामे में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) को बताया। इनमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के कोविशील्ड (Covishield) की 10 करोड़ खुराक और भारत बायोटेक के कोवैक्सिन (Covaxin) की दो करोड़ खुराक शामिल हैं।

इसका मतलब है कि एक दिन में 40 लाख खुराक से कम, जो लगभग 1 करोड़ खुराक के लक्ष्य से काफी कम है। केंद्र का बयान देश में कोविड की तीसरी लहर से बचने के लिए टीके के लक्ष्यों को पूरा करने पर सवाल उठाता है।

PM Modi ने की कोविड समीक्षा, वैक्सीन आउटरीच में एनजीओ की मदद का आह्वान

जून में देश में टीकाकरण (Covid Vaccination) दरों में तेजी देखी गई थी। 1 जून से 27 जून के बीच, भारत में लगभग 10.8 करोड़ खुराकें दी गईं, प्रतिदिन औसतन लगभग 40 लाख खुराक। हो सकता है कि अगले महीने टीकाकरण की रफ्तार में कोई खास तेजी न आए।

22 से 26 जून के बीच, भारत एक दिन में 54-65 लाख खुराक दे रहा है, जो जुलाई में एक दिन में 40 लाख खुराक की अनुमानित आपूर्ति से अधिक है।

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को यह भी बताया कि दिसंबर तक COVID-19 टीकों की 135 करोड़ खुराक उपलब्ध होगी – पिछले महीने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुमान से काफी कम।

रूस के स्पुतनिक वी, बायो ई सब यूनिट वैक्सीन और जाइडस कैडिला के डीएनए वैक्सीन में ये 135 करोड़ शॉट्स फैक्टर हैं। लेकिन इन दोनों को अभी तक सभी अनुमोदन प्रक्रियाओं की मंजूरी नहीं मिली है।

पिछले महीने एक प्रस्तुति में, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अनुमान लगाया था कि साल के अंत तक 216 करोड़ से अधिक खुराक उपलब्ध होंगे।

Assam सोमवार से “Enhanced Covid Vaccination” अभियान शुरू करेगा

केंद्र का हलफनामा COVID-19 प्रबंधन पर सुप्रीम कोर्ट के “सू मोटो केस” से संबंधित है।

अदालत ने इससे पहले सरकार की टीकाकरण (Covid Vaccination) नीति पर सवाल उठाते हुए इसे ‘मनमाना’ बताया था।