Newsnowप्रमुख ख़बरेंTractor Rally Violence: आरोपी Deep Sidhu को पंजाब के जीरकपुर से पकड़ा...

Tractor Rally Violence: आरोपी Deep Sidhu को पंजाब के जीरकपुर से पकड़ा गया

किसानों के ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में कई जगहों पर हुई हिंसा में आरोपी एक्टर Deep Sidhu को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है.

New Delhi: गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर किसान आंदोलन (Farmers Protest) के तहत निकाली गई ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के दौरान दिल्ली में हुई हिंसा में बतौर आरोपी सामने आए Actor Deep Sidhu को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने इसकी जानकारी दी है. जानकारी है कि सिद्धू को पंजाब के जीरकपुर से पकड़ा गया है.

Deep Sidhu: जानें कौन हैं दीप सिद्धू, किसान आंदोलन से कैसे जुड़े

दीप सिद्धू और तीन अन्य आरोपियों पर जानकारी देने के लिए पुलिस ने 1 लाख का इनाम रखा था. सिद्धू का नाम ट्रैक्टर रैली में हिंसा-झड़प भड़काने की घटनाओं में सामने आया था.

दरअसल, उस दिन कुछ प्रदर्शनकारियों ने तय रूट और वक्त के उलट जाकर ट्रैक्टर लेकर दूसरे रास्तों पर चले गए थे. यहां कई जगहों पर पुलिस के साथ उनकी झड़प हुई. गाड़ियों के साथ तोड़फोड़ हुई. फिर बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी लाल किले में घुस गए और यहां भी काफी तोड़फोड़ हुई. कुछ लोग यहां किले के सामने एक खंभे पर चढ़ गए और धार्मिक सिख झंडा फहरा दिया.

Tractor Rally: किसान नेता बोले- आंदोलन को खराब करने वाले लोग राजनीतिक दलों के हैं

बता दें कि पिछले दिनों Deep Sidhu ने एक वीडियो जारी कर खुद को निर्दोष बताया था. सिद्धू उस दिन के बाद से ही फरार चल रहा था लेकिन उसके फेसबुक अकाउंट से लगातार ऐसे वीडियोज़ डाले जा रहे थे जिसमें वो किसान नेताओं और आंदोलन को लेकर बात कर रहा था. 

Tractor Rally Violence Accused Deep Sidhu caught from Zirakpur, Punjab
पुलिस के सूत्रों ने बताया था कि दीप सिद्धू का फेसबुक अकाउंट उसकी एक महिला दोस्त हैंडल कर रही है.

पुलिस के सूत्रों ने बताया था कि दीप सिद्धू का फेसबुक अकाउंट उसकी एक महिला दोस्त हैंडल कर रही है. वह विदेश से ही दीप के वीडियो फेसबुक पर अपलोड कर रही थी. दीप सिद्धू (Deep Sidhu) अपने वीडियो रिकॉर्ड करके महिला मित्र को भेज रहा था.

ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के दौरान प्रदर्शनकारियों की भयंकर झड़प हुई थी, जिसमें 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए थे. लाल किले में भी काफी ज्यादा तोड़फोड़ हुई थी. हालांकि, किसान संगठनों ने कहा है कि लाल किले में जो प्रदर्शनकारी गए थे, वो किसान नहीं थे और इसकी जांच की जानी चाहिए कि आखिर हिंसा किसने भड़काई.